वृश्चिक राशि का सूर्य : किस राशि पर शुभ, किसके लिए अशुभ


रविवार, 17 नवंबर 2019 को रात्रि 1 बजे से सूर्य तुला राशि से वृश्चिक राशि में प्रवेश कर गया, जो कि 16 दिसंबर 2019 को दोपहर 3 बजे तक रहेगा।
मेष
सूर्य ग्रह का गोचर आपकी राशि से अष्टम भाव से होने से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां आ सकती हैं। संतान पक्ष में कष्ट रहेगा। विद्यार्थी वर्ग के लिए सावधानी से चलना होगा। पारिवारिक मामलों में सोच-समझकर चलना होगा। मान-सम्मान की दृष्टि से थोड़ा संभलकर चलना होगा। मनोरंजन के मामलों में या इससे जुड़े व्यक्तियों को संभलकर चलना होगा।
वृषभ
सूर्य का गोचर आपकी राशि से सप्तम भाव से होने से विवाह में आ रही बाधा दूर होगी, वहीं दैनिक व्यवसाय से जुड़े व्यक्तियों को अनुकूल सफलता मिलेगी। पदोन्नति के योग भी बनेंगे। वैवाहिक जीवन में थोड़ी समझदारी से चलना होगा। स्वास्थ्य की दृष्टि से समय सुखद कहा जा सकता है।
मिथुन
सूर्य के आपकी राशि से षष्ठ भाव से गोचर करने से पराक्रम बढ़ेगा। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे। स्वास्थ्य की दृष्टि से समय अनुकूल रहेगा। भाइयों व मित्रों का सहयोग मिलने से अपने कार्य में कुछ राहत भी मिलेगी। कोर्ट-कचहरी के मामलों में अनुकूल सफलता के आसार हैं। रुका पैसा मिलने की उम्मीद जागेगी।
कर्क
सूर्य का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में होने से संतान पक्ष का सहयोग मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग के लिए उत्तम समय रहेगा। आर्थिक मामलों में यह समय अच्छा रहेगा। उधार दिया रुपया-पैसा आपको वापस मिल सकता है। प्रेम के मामलों में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आपके जीवनसाथी को लाभ प्राप्त हो सकता है, हालांकि आप दोनों के बीच किसी बात को लेकर मनमुटाव होने की भी आशंका है।
सिंह
सूर्य के आपकी राशि से चतुर्थ भाव से भ्रमण करने से पारिवारिक मामलों में अनुकूल स्थिति रहेगी। घर-परिवार में शुभ कार्य भी हो सकते हैं। वाहनादि सुख की प्राप्ति भी संभव है। व्यापार-व्यवसाय से जुड़े व्यक्ति भी लाभान्वित होंगे। पिता का सहयोग अनुकूल रहेगा। भाग्य भी साथ देगा।
कन्या
सूर्य का गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में होगा। आपके साहस व पराक्रम आदि में वृद्धि होगी स्वास्थ्य भी उत्तम रहेगा। आर्थिक मामलों में यह समय आपके लिए अनुकूल रहेगा। शत्रु पक्ष प्रभावहीन होंगे। भाइयों व मित्रों का अनुकूल सहयोग पाएंगे। साझेदारी के कामों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में आस्था बढ़ेगी।
तुला
सूर्य के आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर भ्रमण करने से आपकी वाणी के प्रभाव से धन की बचत व लाभ के योग बनेंगे। कुटुम्ब के लोगों का सहयोग आपके लिए लाभकारी होगा। वाहनादि सावधानी से चलाना होगा। जवाबदारी के कार्य में सतर्कता रखनी होगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा।
वृश्चिक
सूर्य का गोचर आपकी ही राशि से लग्न भाव में भ्रमण होने से आप में साहस की अनुभूति होगी। आप अपनी महत्वाकांक्षाएं पूरी करने में समर्थ होंगे। स्वास्थ्य भी उत्तम ही रहेगा। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। दांपत्य जीवन में थोड़ी सावधानी रखकर चलना होगा। स्त्री पक्ष के स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा।
धनु
सूर्य के आपकी राशि से द्वादश भाव में भ्रमण करने से बाहरी मामलों में अनुकूल स्थिति पाएंगे। यात्रा के योग बन सकते हैं। नए संपर्क बनेंगे, जो आपके लिए अनुकूल भी रहेंगे। भाग्य की स्थिति प्रबल होगी, वहीं विदेश यात्रा के योग भी बन सकते हैं। धर्म-कर्म में सहयोग देना पड़ सकता है। धन संबंधित समस्या हल होगी।
मकर
सूर्य के आपकी राशि से एकादश भाव में गोचर भ्रमण करने से आर्थिक मामलों में सावधानी रखना होगी। जोखिम के मामलों में धन लगाने से बचना होगा। स्वास्थ्य का भी ध्यान रखकर चलें। जवाबदारी के कार्य में सतर्कता रखकर कार्य करना होगा। लेन-देन से भी बचना होगा। नौकरीपेशा व व्यवसाय से जुड़े व्यक्ति भी सोच-विचारकर कार्य करें।
कुंभ
सूर्य का गोचर आपकी राशि से दशम भाव में होने से किसी भी कार्य में पिता का सहयोग अनुकूल रहेगा। व्यापार-व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए समय सुखद रहकर लाभदायक रहेगा। नौकरीपेशा भी अनुकूल स्थिति पाएंगे। पारिवारिक सहयोग मिलने से प्रसन्नता रहेगी। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। अविवाहितों के लिए सुखद समाचार मिलेगा।
मीन
सूर्य का गोचर आपकी राशि से नवम भाव में होने से स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा। शत्रु पक्ष पर प्रभाव बढ़ेगा। कोर्ट-कचहरी के मामलों में अनुकूलता होकर सफल भी होंगे। भाग्यबल का साथ मिलने से आपके लिए यह मास ठीक-ठीक ही रहेगा। भागदौड़ अधिक होगी। साझेदारी के मामलों में सावधानी रखकर चलें।

उपाय- यदि आपको कुछ उत्तम महसूस न हो तो प्रात: सूर्य को दूध-मिश्री मिले जल का अर्घ्य दें व बगैर नमक भोजन का सेवन करें, रविवार का एक वक्त व्रत रखें।



और भी पढ़ें :