सोमवार, 22 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. ज्योतिष
  3. ज्योतिष आलेख
  4. List Of Indian Fasts and Festivals
Written By

वर्ष 2024 के प्रमुख व्रत और त्योहारों की तारीखें

वर्ष 2024 के प्रमुख व्रत और त्योहारों की तारीखें - List Of Indian Fasts and Festivals
2024 Indian Hindu Calendar: वर्ष 2024 प्रारंभ होने वाला है और यदि आप यह जानना चाहते हैं कि नए वर्ष में कब कब रहेंगे महत्वपूर्ण व्रत, त्योहार, चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण तो जानिए यहां पर पंचांग पर आधारित सटीक जानकारी।
 
चलिए सबसे पहले जान लेते हैं जनवरी माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार::-
लोहड़ी पर्व : यह पर्व 13 जनवरी शनिवार को मनाया जाएगा।
मकर संक्रांति : यह पर्व 15 जनवरी सोमवार के दिन मनाया जाएगा।
पोंगल : दक्षिण भारत का यह पर्व 15 जनवरी सोमवार के दिन मनाया जाएगा।
 
चलिए अब जानते हैं फरवरी माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
गुप्त नवरात्रि : माघ माह की गुप्त नवरात्रि 10 फरवरी शनिवार से प्रारंभ होगी।
बसंत पंचमी : यह पर्व 14 फरवरी को मनाया जाता है। इस दिन माता सरस्वती की पूजा होती है।
 
चलिए अब जानते हैं मार्च माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
महाशिवरात्रि : यह पर्व 08 मार्च शुक्रवार को मनाया जाएगा।
होलिका दहन : यह पर्व 24 मार्च रविवार को मनाया जाएगा। 
धुलेंडी : यह पर्व 25 मार्च सोमवार के दिन मनाया जाएगा।
गुड फ्रायडे : यह पर्व 29 मार्च शुक्रवार के दिन रहेगा।
रंग पंचमी : इस पर्व को 30 मार्च शनिवार के दिन मनाएंगे।
 
चलिए अब जानते हैं अप्रैल माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
गुड़ी पड़वा : यह पर्व 9 अप्रैल मंगलवार के दिन रहेगा। इस दिन से हिंदू नववर्ष 2081 की शुरुआत होगी।
चैत्र नवरात्रि प्रारंभ : चैत्र माह की नवरात्रि का प्रारंभ 9 अप्रैल मंगलवार से हो रहा है।
चेटीचंड : सिंधी समाज का चेटीचंड पर्व 10 अप्रैल बुधवार के दिन मनाया जाएगा।
ईद उल फितर : मुस्लिम समाज 11 अप्रैल गुरुवार के दिन ईद उल फितर का पर्व मनाएंगे।
बैसाखी : पंजाबी और हरियाणवी समाज के लोग 14 अप्रैल रविवार को बैसाखी का उत्सव मनाएंगे।
रामनवमी : राम जन्मोत्सव का यह पर्व 17 अप्रैल बुधवार के दिन मनाया जाएगा।
हनुमान जयंती : पंचाग भेद से 23 अप्रैल मंगलवार के दिन हनुमान प्रकटोत्सव मनाया जाएगा।
 
चलिए अब जानते हैं मई माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
परशुराम जयंती : यह पर्व 10 मई को मनाया जाएगा। इसी दिन अक्षय तृतीया रहेगी।
गंगा सप्तमी : 14 मई को गंगा सप्तमी का महापर्व रहेगा।
जनकी जयंती : 16 मई गुरुवार को सीता जन्मोत्सव मनाया जाएगा।
बुद्ध पूर्णिमा : 23 मई गुरुवार को भगवान गौतम बुद्ध की जयंती रहेगी।
 
चलिए अब जानते हैं जून माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
शनि जयंती : 6 जून गुरुवार के दिन शनि जयंती के साथ ही वट सावित्री अमावस्या भी रहेगी।
गंगा दशहरा : 16 जून रविवार के दिन गंगा दशहरा पर्व के साथ ही गायत्री जयंती भी रहेगी।
बकरीद : मुस्लिमों को त्योहार ईद उल अजहा यानी बकरीद का पर्व 17 जून सोमवार के दिन रहेगा।
वट सावित्री पूर्णिमा : यह त्योहार 21 जून शुक्रवार के दिन रहेगा। इसी दिन योगा डे भी है।
 
चलिए अब जानते हैं जुलाई माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
गुप्त नवरात्रि प्रारंभ : आषाढ़ माह की गुप्त नवरात्रि का प्रारंभ 1 जुलाई सोमवार से होगा।
जगन्नाथ रथ यात्रा : इस यात्रा का प्रारंभ 7 जुलाई रविवार के दिन से होगा।
मोहर्रम : मुस्लिमों का पर्व मोहर्रम 17 जुलाई बुधवार को मनाया जाएगा।
देवशयनी एकादशी : 17 जुलाई बुधवार के दिन देव सो जाएंगे और सभी तरह के मांगलिक कार्य चार माह के लिए बंद हो जाएंगे।
गुरु पूर्णिमा : यह पर्व 21 जुलाई रविवार के दिन मनाया जाएगा।
श्रावण सोमवार व्रत प्रारंभ : 22 जुलाई सोमवार से श्रावण सोमवार के व्रत प्रारंभ हो जाएंगे।
 
चलिए अब जानते हैं अगस्त माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
हरियाली अमावस्या : यह पर्व 4 अगस्त रविवार के दिन मनाया जाएगा।
हरियाली तीज : यह पर्व 7 अगस्त बुधवार के दिन मनाया जाएगा।
नाग पंचमी : यह त्योहार 9 अगस्त शुक्रवार के दिन मनाया जाएगा।
रक्षा बंधन राखी : भाई बहन का यह त्योहार 19 अगस्त सोमवार के दिन मनाएंगे।
कृष्ण जन्माष्टमी : भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव 26 अगस्त सोमवार के दिन मनाएंगे।
 
चलिए अब जानते हैं सितंबर माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
हरतालिका तीज : यह त्योहार 6 सितंबर शुक्रवार के दिन मानाएंगे।
गणेश चतुर्थी : 7 सितंबर शनिवार के दिन से 10 दिवसीय गणेश उत्सव प्रारंभ होंगे।
डोल ग्यारस : 14 सितंबर को शनिवार के दिन डोल ग्यारस रहेगी।
ओणम : दक्षिण भारत का यह प्रमुख पर्व 15 सितंबर रविवार के दिन मनाया जाएगा।
अनंत चतुर्दशी : 18 सितंबर बुधवार के नि अनंत चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन समारोह होगा।
श्राद्ध पक्ष प्रारंभ : 18 सितंबर बुधवार के दिन से ही 16 श्राद्ध प्रारंभ हो जाएंगे।
महालक्ष्मी व्रत : 24 सितंबर मंगलवार को दिन दक्षिण भारत में महालक्ष्मी का व्रत रख जाएगा।
 
चलिए अब जानते हैं अक्टूबर माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
सर्वपितृ अमावस्या : सोलह श्राद्ध का अंतिम दिन सर्वपितृ अमावस्या का पर्व 2 अक्टूबर बुधवार के दिन मनाएंगे।
शारदीय नवरात्रि प्रारंभ : आश्विन माह की नवरात्रि का प्रारंभ 3 अक्टूबर गुवार के दिन हो रहा है।
दशहरा : विजयादशमी यानी दशहरे का उत्सव 12 अक्टूबर शनिवार के दिन मनाया जाएगा।
शरद पूर्णिमा : 16 अक्टूबर बुधवार के दिन शरद पूर्णिमा का पर्व रहेगा। तिथि भेद से यह 17 अक्टूबर को भी रहेगा।
करवा चौथ : पति पत्नी का यह महापर्व करवा चौथ 20 अक्टूबर रविवार के दिन रहेगा।
धनतेरस : 29 अक्टूबर मंगलवार के दिन धनतेरस रहेगी। इस दिन से दिवाली का पांच दिन उत्सव प्रारंभ हो जाएगा।
नरक चतुर्दशी : 30 अक्टूबर बुधवार के दिन नरक चतुर्दशी और रूप चौदस का पर्व मनाया जाएगा।
दिवाली : दीपावली का त्योहार 31 अक्टूबर गुरुवार के दिन मनाया जाएगा।
 
चलिए अब जानते हैं नवंबर माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
अन्नकूट महोत्सव और गोवर्धन पूजा : 2 नवंबर शनिवार के दिन यह पर्व मनाया जाएगा।
भाई दूज : भाई बहन का यह त्योहार 3 अक्टूबर रविवार के दिन मनाएंगे।
छठ पूजा : सूर्य पूजा का महापर्व छठ पूजा का त्योहार 7 नवंबर गुरुवार के दिन मनाएंगे।
देव उठनी एकादशी : 12 नवंबर मंगलवार के दिन देव उठ जाएंगे और तब से सभी तरह के मांगलिक कार्य प्रारंभ हो जाएंगे।
गुरु नानक जयंती : यह पर्व 15 नवंबर शुक्रवार के दिन मनाया जा रहा है।
 
चलिए अब जानते हैं दिसंबर माह के प्रमुख व्रत एवं त्योहार:-
गीता जयंती : 11 दिसंबर बुधवार के दिन गीता जयंती का महापर्व मनाएंगे। इसी दिन मोक्षदा एकादशी रहेगी।
भगवान दत्तात्रेय जयंती : 14 दिसंबर शनिवार के दिन भगवान दत्तात्रेय की जयंती रहेगी।
मैरी क्रिसमस : 25 दिसंबर बुधवार के दिन क्रिसमस का पर्व रहेगा।
 
चलिए अब जान लेते हैं वर्ष 2024 में पड़ने वाले ग्रहण: इस वर्ष दो सूर्य ग्रहण और एक चंद्र ग्रहण रहेगा। 
 
1. खग्रास सूर्य ग्रहण : 8 अप्रैल 2024 सोमवार को रहेगा खग्रास सूर्य ग्रहण जो भारत में नहीं दिखाई देगा।
2. खंडग्रास चंद्र ग्रहण : 18 सितंबर बुधवार को रहेगा खंडग्रास चंद्र ग्रहण जो भारत में नहीं दिखाई देगा।
3. कंकणाकृति सूर्य ग्रहण : 2 अक्टूबर बुधवार को रहेगा कंकणाकृति सूर्य ग्रहण जो भारत में नहीं दिखाई देगा।
 
उल्लेखनीय है कि निम्नलिखित जानकारी पंचांग पर आधारित है। पंचांग भेद से तिथि पर परिवर्तन होता है।