1. चुनाव 2022
  2. विधानसभा चुनाव 2022
  3. चर्चित उम्मीदवार
  4. Elections for the 13th time at the age of 94, Prakash singh Badal has created many records
Written By
पुनः संशोधित मंगलवार, 8 फ़रवरी 2022 (19:13 IST)

94 साल की उम्र में 13वीं बार चुनाव, बादल ने रचे हैं सियासत में कई कीर्तिमान

चंडीगढ़/लांबी। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के वयोवृद्ध नेता प्रकाश सिंह बादल 13वीं बार चुनाव मैदान में हैं और पंजाब विधानसभा के लिए होने वाले चुनाव में लांबी सीट से किस्मत आजमाएंगे। बादल की उम्र 94 साल है और वे रिकॉर्ड 5 बार पंजाब के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। 
 
इसके साथ ही बादल ने सबसे उम्रदराज उम्मीदवार होने के केरल के पूर्व मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंद के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। माकपा नेता अच्युतानंद ने वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव में 92 साल की उम्र में चुनाव लड़ा था। मुक्तसर जिले की लांबी सीट से बादल किस्मत आजमा रहे हैं। पंजाब में 20 फरवरी को मतदान होगा। 
 
12वीं बार विधानसभा पहुंचने की तैयारी : लाहौर के एफसी कॉलेज से कला स्नातक करने वाले बादल ने खुद को एक कृषिविद मानते हैं। बादल 1997 से लंबी सीट से चुनाव जीतते रहे हैं। बादल ने इससे पहले 1969, 1972, 1977, 1980 और 1985 में गिद्दड़बाहा से लगातार 5 बार जीत दर्ज की थी। इसके बाद, वह लांबी चले गए और 1997, 2002, 2007, 2012 तथा 2017 में लगातार 5 बार जीत हासिल की। 8 दिसंबर 1927 में जन्मे बादल सबसे पहले वर्ष 1957 में संयुक्त पंजाब विधानसभा के लिए चुने गए थे। 
 
कितनी है संपत्ति : चुनावी हलफनामे के मुताबिक, बादल के नाम 3.89 लाख रुपए का ट्रैक्टर है। उनके पास 6 लाख रुपए मूल्य के सोने के आभूषण और बैंकों एवं अन्य वित्तीय संस्थानों में 1.39 करोड़ रुपए जमा हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने मुक्तसर, राजस्थान के श्रीगंगानगर और हरियाणा के सिरसा में अपनी कृषि और गैर-कृषि भूमि बताई है।
 
उन्होंने मुक्तसर के बादल गांव में 14,757 वर्ग फुट के ‘बिल्ट अप एरिया’ के साथ 59.37 लाख रुपए मूल्य का आवासीय घर घोषित किया है। बादल ने क्रमशः 8.40 करोड़ रुपए और 6.71 करोड़ रुपए मूल्य की चल-अचल संपत्ति घोषित की है। उन पर बैंक ऋण सहित 2.74 करोड़ रुपए की कुल देनदारी है।
 
क्या कहते हैं मित्र चौटाला : लंबे समय से मित्र रहे 87 वर्षीय नेता चौटाला ने कहा कि उनकी और प्रकाश सिंह बादल की राजनीति हमेशा से जनता के कल्याण के ईर्द गिर्द रही। शिअद के मुताबिक पार्टी नेताओं के आग्रह पर बादल ने बढ़ती उम्र और हाल में कोविड-19 से संक्रमित होने के बावजूद चुनावी मैदान में उतरने का फैसला किया। बादल को पिछले महीने ही अस्पताल से छुट्टी मिली थी। 
 
उनके बेटे सुखबीर सिंह बादल इस समय पार्टी के अध्यक्ष हैं। शिअद नेता और बादल की बहू हरसिमरत कौर बादल ने उनके लिए निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार किया है। इसी प्रकार इंडियन नेशनल लोकदल (इनोलो) के अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला भी प्रकाश सिंह बादल को फिर जिताने की अपील कर रहे हैं।
 
ये भी पढ़ें
अब सिद्धू की पत्नी नवजोत उतरीं चन्नी के विरोध में, कहा- CM फेस तो सिद्धू अच्छे होते...