पंजाब में बाँध टूटा, कई गाँव प्रभावित

जालंधर (वार्ता)| वार्ता|
हमें फॉलो करें
पंजाब में जालंधर जिले के शाहकोट तहसील के निकट लोहियाँ क्षेत्र में सतलज नदी के दाएँ बाँध के टूट जाने के बाद सेना को बुला लिया गया है। बाढ़ से निकटवर्ती फिरोजपुर जिला भी प्रभावित हुआ है। वहाँ भी सेना काम में जुटी हुई है


आधिकारिक सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को आधी रात को गदडपिंडी गाँव के निकट बाँध में दरार आई। गिदडपिडी, मानक और धौला समेत छह सात गाँवों में दस से पंद्रह फुट ऊँचा पानी आ गया है।

बाँध लगभग 150 फुट में टूट गया है। सेना ने मोटरवोट की सहायता से लगभग 30 प्रभावित परिवारों को बचा लिया है। सतलुज नदी के पानी से खेत खलिहानों को भारी क्षति हुई है।

सूत्रों ने बताया गाँव में बाढ़ के पानी के आने के बाद लोग ऊँचे-ऊँचे स्थानों पर शरण लेने लगे। कुछ लोग अपने पशुओं को भी सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाने में सफल रहे।


बाढ़ के बावजूद कुछ परिवार अपना घर नहीं छोड़ना चाहते हैं, जिसके कारण राहत एवं बचाव कार्य प्रभावित हो रहा है। कुछ परिवारों ने घरों की छतों पर शरण ली है।
इस बीच जालंधर, फिरोजपुर रेल खंड पर रेल सेवा को एहतियातन स्थगित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री प्रकाशसिंह बादल ने शनिवार को जालंधर, फिरोजपुर, तरनतारन और कपुरथला जिलों के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया।

इस दौरान बर्षा और बाढ़ के पानी से हुए नुकसान का भी जायजा लिया गया। जालंधर जिले के शाहकोट तहसील में सतलुज नदी के बाँध में आई दरार के कारण बाढ़ प्रभावित हुआ है, जबकि तीन अन्य जिलों में पिछले चार-पाँच दिनों से हो रही वर्षा के कारण जलजमाव की समस्या पैदा हुई है। मानसून की अच्छी वर्षा के कारण ब्यास और सतलुज के किनारे भी बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हुई है।
इस बीच फिरोजपुर जिले में भी सामान्य प्रशासन की मदद के लिए सेना को भी बुला लिया गया है। राहत एवं बचाव कार्य में सेना की लगभग 25 नावों को लगाया गया है।



और भी पढ़ें :