फर्जी उड़ान लाइसेंस घोटाले में चार गिरफ्तार

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 26 मार्च 2011 (11:11 IST)
हमें फॉलो करें
फर्जी उड़ान लाइसेंस घोटाले के सिलसिले में ने के एक अधिकारी और एक समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है।


पुलिस ने बताया कि उन्होंने डीजीसीए अधिकारी प्रदीप कुमार, पायलट प्रदीप त्यागी और दो दलालों को गिरफ्तार किया है। उनमें से एक की पहचान ललित के जैन के तौर पर की गई है।

इन चार लोगों की गिरफ्तारी के साथ ही इस मामले में अब तक 10 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

फर्जी रिकॉर्ड और दस्तावेज जमाकर वाणिज्यिक लाइसेंस हासिल करने वाले पायलटों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए डीजीसीए ने हाल में 14 पायलटों को उड़ान भरने से रोक दिया था।


एक व्यक्ति तभी वाणिज्यिक विमान को उड़ाने की योग्यता हासिल करता है जब वह वाणिज्यिक पायलट लाइसेंस प्राप्त करता है। एक व्यक्ति जब प्रशिक्षण के दौरान 200 घंटे की उड़ान पूरा करता है तभी उसे सीपीएल दिया जाता है।
हालाँकि, 14 पायलट जिनका लाइसेंस वापस लिया गया है उन्होंने कथित तौर पर अनिवार्य घंटे तक उड़ान भरने की शर्त को पूरा नहीं किया था और राजस्थान के एक उड़ान प्रशिक्षण संस्थान से कथित तौर पर फर्जी प्रमाण पत्र हासिल किया था।

डीजीसीए प्रमुख ई के भारत भूषण ने कहा कि करीब 10 हजार पायलटों का सीपीएल जाँच के घेरे में है। इसके अलावा करीब 4000 एयरलाइंस पायलट ट्रेनिंग लाइसेंस रखने वाले लोग भी जाँच के दायरे में हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :