रणथंभौर अभयारण्य के दो बाघ मृत मिले

जयपुर| भाषा|
हमें फॉलो करें
FILE
देश में की घटती जनसंख्या को बढ़ाने के लिए सालों से जारी प्रयासों को रविवार को उस समय जबरदस्त झटका लगा, जब के स्थिर रणथंभौर बाघ अभयारण्य के दो बाघ सवाई माधोपुर और करौली जिले की सीमा पर चिरोली गाँव के निकट मृत मिले।


शुरुआती जाँच रिपोर्ट में बाइस और चौबीस महीने के नर बाघों के शव के निकट एक शिकार की गई बकरी और बाघ द्वारा की गई उल्टियाँ मिलने से अंदाज जगाया जा रहा है कि दोनों बाघों की मौत संभवत: विषाक्त प्रदार्थ खाने के कारण हुई है।

राजस्थान के वन एंव पर्यावरण राज्यमंत्री रामलाल जाट ने कहा कि दोनों बाघों की मौत के कारणों की जाँच के लिए भरतपुर संभागीय आयुक्त की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर तीन दिन में रिपोर्ट देने के आदेश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि बाघों के जहरीला पदार्थ खाने के सबूत मिले है, लेकिन अंतिम रूप से पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही दोनों बाघों के मरने के बारे में कहा जा सकेगा। उन्होंने कहा कि दोनों बाघों के आईडी कॉलर नहीं लगी होने के कारण वनकर्मी दो दिनों से दोनों की खोज खबर ले रहे थे। वनकर्मियों को आज दोनों बाघों के शव मिले हैं।

उन्होंने बताया कि भरतपुर के संभागीय आयुक्त की अध्यक्षता में गठित तीन सदस्यीय कमेटी में सवाई माधोपुर के जिला कलेक्टर और राजस्थान के मुख्य वन एंव प्रतिपालक को सदस्य बनाया गया है। कमेटी को तीन दिन में जाँच रिपोर्ट राज्य सरकार को देने के आदेश दिए गए हैं।

ईंधन, वन जीव विशेषज्ञ और बाघ संख्या को बढ़ाने के लिए गठित पूर्व कमेटी के सदस्य राजपालसिंह ने कहा कि दो बाघों के शव मिलने से बाघों की वंशवृद्धि के लिए जारी अभियान को झटका लगा है। उन्होंने दोनों बाघों की मौत के लिए केन्द्र सरकार द्वारा रणथंभौर बाघ अभयारण्य से बाघों को अन्य स्थानांतरित नहीं करने के फैसले को जिम्मेदार ठहराया है।
राजपालसिंह ने कहा कि सवाई माधोपुर स्थित रणथंभौर बाघ अभयारण्य में पिछले दिनों की गणना में 41 बाघ होने की पुष्टि हुई है। उन्होंने कहा कि बाघ अपने स्थान को लेकर सजग रहता है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय भी पाँच युवा बाघ अपने स्थान की तलाश के लिए की सीमा से बाहर निकले हुए हैं।
उन्होंने कहा कि दोनों बाघों ने दो बकरियों का शिकार किया है। एक बकरी का शव पड़ा मिला है। उन्होंने कहा कि बाघों के शव के निकट उल्टी मिलने से यह तय है कि बाघों की मौत विषाक्त पदार्थ का सेवन करने से हुई है। (भाषा)



और भी पढ़ें :