बर्नी मामले में भारत ने खेद जताया

दस्तावेज न होने से लौटना पड़ा-गृह मंत्रालय

नई दिल्ली (वार्ता)| वार्ता|
भारत ने शनिवार को इस बात से इनकार किया कि पाकिस्तान के पूर्व मंत्री और मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी को शुक्रवार को यहाँ आने पर वापस भेज दिया गया, बल्कि संबंधित दस्तावेज न होने के कारण उन्हें वापस जाना पड़ा।


गृह मंत्रालय ने मीडिया में छपी इस आशय की रिपोर्टों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसा बर्नी के पास संबंधित दस्तावेज न होने के कारण हुआ। हालाँकि मंत्रालय ने इस घटना से बर्नी को हुई असुविधा को दुर्भाग्यपूर्ण और खेदजनक बताया मंत्रालय की ओर से जारी वक्तव्य में कहा गया है कि बर्नी से मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बात कर अफसोस जताया है।
वक्तव्य में कहा गया है कि बर्नी की इससे पहले की दिल्ली यात्राओं में उन्हें कोई असुविधा नहीं हुई। इस मामले में संबंधित विभाग की जाँच में कहा गया है कि उन्हें पर्याप्त कागजात नहीं होने के कारण वापस जाना पड़ा। भारतीय नागरिक कश्मीरसिंह की हाल में हुई पाकिस्तान से रिहाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले बर्नी एक सम्मेलन में भाग लेने के लिए लंदन से दुबई होते हुए दिल्ली आए थे।

गृह सचिव ने शनिवाविदेश सचिव से मुलाकात कर इस मामले पर चर्चा की। बर्नी ने कहा कि उन्हें बिना कोई कारण बताए वापस भेज दिया गया।



और भी पढ़ें :