गुरुवार, 2 फ़रवरी 2023
  1. खबर-संसार
  2. »
  3. समाचार
  4. »
  5. राष्ट्रीय
Written By भाषा

सांसदों को ‘शालीनता’ से पेश आने की सलाह

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के सोमवार को संसद दौरे के दौरान विभिन्न राजनीतिक दलों के सांसदों को ‘शालीनता’ से पेश आने की सलाह दी गई है। स्पीकर कार्यालय सूत्रों ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि स्पीकर कार्यालय ने नहीं बल्कि संसदीय कार्य मंत्रालय ने यह सलाह दी है।

गौरतलब है कि राष्ट्रपति बिल क्लिंटन द्वारा वर्ष 2000 में संसद सदस्यों को संबोधित करने के बाद सांसदों द्वारा किए गए व्यवहार की काफी आलोचना हुई थी ।

लोकसभा में मुख्य विपक्षी दल भाजपा के एक वरिष्ठ सदस्य अजरुन राम मेघवाल ने भाषा को बताया कि संसदीय कार्य मंत्रालय की ओर से सभी राजनीतिक दलों के नेताओं को पिछले दिनों सलाह पत्र जारी किया गया जिसमें स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के संसद आगमन और विशेष रूप से दोनों सदनों के सदस्यों को संबोधित किए जाने के दौरान सदस्य ‘शालीनता’ से पेश आएँ और ‘शिष्टाचार’ को बनाए रखें।

यह सलाह पत्र पार्टी नेताओं को जारी किया गया हैं। उनसे यह सुनिश्चित कराने को कहा गया है कि संबंधित दलों के सांसद सदन में शालीनता बनाएँ रखें तथा उनका आचरण संसद की गरिमा को बढ़ाने वाला हो।

पहले स्पीकर कार्यालय की ओर से सांसदों को इस प्रकार के दिशा निर्देश जारी किए जाने की संभावना थी लेकिन स्पीकर मीरा कुमार ने यह कहते हुए निर्देश जारी करने से इनकार कर दिया था कि इससे सांसद आहत महसूस करेंगे। उनका कहना था कि सांसद परिपक्व और अनुभवी हैं तथा उन्हें पता है कि किस तरह से पेश आना है।

हालाँकि स्पीकर कार्यालय सूत्रों ने यह जरूर स्वीकार किया कि क्लिंटन के दौरे के दौरान सांसदों द्वारा किए गए व्यवहार को लेकर मीडिया में आई कुछ रिपोटरें के बाद स्पीकर ने क्लिंटन के संबोधन की वीडियो रिकार्डिंग निकलवा कर देखी थी। (भाषा)