अयोध्या मामले में हिन्दू महासभा की आपत्ति

लखनऊ| वार्ता| पुनः संशोधित गुरुवार, 16 सितम्बर 2010 (18:57 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
अयोध्या के विवादित श्रीराम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद के मालिकाना हक के बारे में इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ के आगामी 24 सितम्बर को आने वाले फैसले को रोंकने के लिए दायर अर्जी की मामले के अन्य पक्षकार अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ने आपत्ति की है।


अयोध्या के मुकदमें के पक्षकार नम्बर 17 रमेश चन्द्र त्रिपाठी ने फैसला रोकने के लिए आवेदन दिया है, जिस पर विशेष पीठ कल सुनवाई करेगा। पक्षकार संख्या दस अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के वकील एचए जैन ने फैसला रोकने के लिए दिए गए आवेदन पर आज आपत्ति दर्ज कराई।

आपत्ति में धारा 89 के हवाले से कहा गया है कि मुकदमें पर काफी रकम खर्च हो गई है और अब इसका फैसला रोकने के लिए दी गई अर्जी का कोई मतलब नहीं है। इसके अलावा उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ की विशेष पीठ ने फैसले की तारीख भी तय कर दी है।

आपत्ति के आवेदन में कहा गया है कि फैसले को ऐसे ही लोग रूकवाना चाहते हैं, जिनका कानून में विश्वास नहीं है और ऐसे लोग अपने हित के लिए ऐसा कर रहे हैं। आपत्ति के अनुसार यह मुकदमा साठ साल चला और अब देश के लोग इसके फैसले का इंतजार कर रहे हैं। (वार्ता)



और भी पढ़ें :