सीआरआर, एसएलआर और नीचे आ सकता है : सुब्बाराव

मुंबई | भाषा|
हमें फॉलो करें
FILE
मुंबई। रिजर्व बैंक गवर्नर डी. सुब्बाराव ने मंगलवार को कहा कि शायद एवं में कटौती करने की जरूरत है।


इससे पहले सुब्बाराव ने नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) और एसएलआर में कटौती करने की बैंकों की मांग से असहमति जताई थी।

आरबीआई गवर्नर ने यहां वाषिर्क बैंकिंग सम्मेलन ‘फिबैक समिट’ के दौरान कहा कि मैं यह बात समझता हूं कि इसकी मांग है और इनमें (सीआरआर व एसएलआर) और कटौती करने की जरूरत है।

पांच साल का कार्यकाल पूरा कर सुब्बाराव 4 सितंबर को सेवानिवृत्त हो जाएंगे और उनकी जगह नए गवर्नर रघुराम राजन लेंगे। वर्तमान में सीआरआर 4 प्रतिशत पर है, जबकि एसएलआर 23 प्रतिशत है।


भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष प्रतीप चौधरी ने कुछ समय पहले कहा था कि सीआरआर ‘सुसुप्त धन है’। उन्होंने कहा था कि यदि आरबीआई इसे कम नहीं करता है तो कम से कम इसके तहत जमा धन पर ब्याज तो दिया ही जाना चहिए। (भाषा)


सम्बंधित जानकारी


और भी पढ़ें :