सरकारी कंपनियों में नौकरियों की बहार

नई दिल्ली| भाषा|
स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना के बाद अब सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियाँ नियुक्तियों पर ध्यान देंगी। कर्मचारियों की संख्या में कमी आने के बाद अब ये कंपनियाँ इस साल 31 हजार नई नियुक्तियाँ करेंगी।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में इन कंपनियों में नई भर्तियाँ होने के बाद कर्मचारियों की संख्या 2007-08 के 15.66 लाख कर्मचारियों के स्तर पर आ सकती है।

सार्वजनिक उद्यमों के विभाग के सचिव भास्कर चटर्जी ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियाँ बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध करा सकती हैं। इन कंपनियों द्वारा चालू वित्त वर्ष में 31,000 लोगों की नियुक्ति किए जाने की संभावना है।
चटर्जी ने कहा कि और कर्मचारियों द्वारा दूसरी कंपनियों में जाने से 2008-09 में कर्मचारियों की संख्या में कमी आई।

उन्होंने कहा कि हमने वैश्विक आर्थिक मंदी के दौरान किसी को नौकरी से नहीं निकाला और न ही लोगों को कंपनी छोड़कर जाने दिया जैसा कि निजी क्षेत्र की कंपनियों में देखा गया।
उल्लेखनीय है कि 246 सरकारी कंपनियों में 2007-08 में 15.66 लाख कर्मचारी कार्यरत थे और 2008-09 में यह संख्या घटकर 15.35 लाख पर आ गई।

वीआरएस शुरू करने के बाद अक्तूबर, 1988 से मार्च, 2009 के बीच केन्द्र सरकार के उद्यमों में करीब 6.1 लाख कर्मचारियों ने वीआरएस अपनाया। (भाषा)



और भी पढ़ें :