फिलहाल नहीं बढ़ेंगे पेट्रोल के दाम

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित सोमवार, 2 जनवरी 2012 (20:25 IST)
तेल कंपनियां इस पखवाड़े के दाम नहीं बढ़ाएंगी। ऐसा लगता है कि विधानसभा चुनावों से ठीक पहले पेट्रोल के दाम में दो रुपए लीटर की वृद्धि के लिए राजनीतिक स्तर पर हरी झंडी नहीं मिल पाई है।

इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन और अन्य तेल कंपनियां पिछले महीने भी दाम नहीं बढ़ा पाई थी। संसद का सत्र जारी रहने की वजह से सरकार को पेट्रोल की मूल्य वृद्धि पर विपक्षी दलों से विरोध का अंदेशा था। बहरहाल, इस पखवाड़े भी नहीं लगता है कि वे पेट्रोल के दाम बढ़ाएंगी।

डॉलर के मुकाबले रुपए की विनिमय दर कम होने से तेल कंपनियों को पेट्रोल की मौजूदा खुदरा कीमतों पर करीब दो रुपए का घाटा हो रहा है। पेट्रोल के दाम एक साल पहले जून में सरकारी नियंत्रण से मुक्त कर दिए गए गए थे, लेकिन अभी अप्रत्यक्ष तौर पर कंपनियों को राजनीतिक नेतृत्व से हरी झंडी लेनी होती है।
बहरहाल, सरकार नहीं चाहती कि सत्ता गठबंधन में सहयोगी तृणमूल कांग्रेस को एक बार फिर नाराज किया जाए। तृणमूल कांग्रेस ईंधन मूल्य में किसी भी वृद्धि के खिलाफ है। इसके अलावा उत्तरप्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड सहित पांच राज्यों के सामने हैं। सूत्रों का कहना है कि ऐसे मौके पर पेट्रोल के दाम बढ़ने से सत्तापक्ष की छवि पर असर पड़ेगा।
सरकार तेल कंपनियों में बहुमत हिस्सेदार है। ऐसे में कंपनियों को दाम बढ़ाने से पहले अपने सबसे बड़े शेयरधारक से सलाह मशविरा और अनौपचारिक मंजूरी लेनी होती है। दिसंबर के दूसरे पखवाड़े में डॉलर के मुकाबले रुपए की विनिमय दर घटकर 53.07 तक गिर जाने के बाद कंपनियों को पेट्रोल में दो रुपए का नुकसान होने लगा। इससे पहले विनिमय दर 51.98 रुपए प्रति डॉलर पर थी। (भाषा)



और भी पढ़ें :