एजुकेशन मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में संवारे कैरियर

ND|
ND
अगर आप कुछ नया करना चाहते हैं, तब यह क्षेत्र आपके लिए है। अपेक्षाकृत नए इस क्षेत्र के प्रति जागरूकता बढ़ रही है। इस क्षेत्र में मैनेजमेंट के गुर सीखने की बात भी है और किस तरह से एक शैक्षणिक संस्थान को बेहतर तरीके से चलाया जाए, यह भी बताया जाता है।

शिक्षा के क्षेत्र में करियर बनाने के लिहाज से कुछ साल पहले शिक्षक या लेक्चरर के विकल्प ही मिलते थे, लेकिन अब संपूर्ण परिदृश्य ही बदल गया है। अगर आप कॉलेज की बात करें, तब निजी कॉलेजों के एकड़ों में फैले संकुल में आपको से लेकर फार्मेसी और अन्य कॉलेज मिल जाएंगे। अब शिक्षा के क्षेत्र में कॉर्पोरेट कल्चर आ गया है। बड़े कॉलेज लाखों में फीस ले रहे हैं, तब छात्रों को उसके अनुसार सुविधाएं भी दे रहे हैं।
विश्वस्तर की सुविधाएं व आधुनिक साधनों से लैस इन कॉलेजों में अलग-अलग विषयों और खासतौर पर सामयिक विषयों को पढ़ाने के लिए विशेषज्ञों को भी बुलाया जाता है। काउंसलिंग से लेकर विभिन्न कार्य अब प्रोफेशनल तरीके से किए जा रहे हैं और ऐसे में प्रोफेशनल लोगों की जरूरत होती है, जो एजुकेशन के क्षेत्र को अच्छी तरह से जान पाएं। इस कारण एजुकेशन मैनेजमेंट एंड टेक्नोलाजी का क्षेत्र करियर के रूप में काफी तेजी से उभर रहा है।
शिक्षण प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए
देश में हजारों की संख्या में कॉलेज हैं जिनमें विद्यार्थियों को तरह-तरह की जानकारी दी जाती है। परंतु जिस प्रकार से कॉर्पोरेट वर्ल्ड में बदलाव आया है और उनकी जरूरत बदली है उसके अनुसार कॉलेजों में पढ़ाए जाने वाली बातें हैं या नहीं इसका ध्यान रखना जरूरी है। इसके अलावा टेक्नोलॉजी का साथ लेकर किस तरह से विद्यार्थियों को और अधिक शिक्षा प्राप्ति के प्रति रुचि जागृत की जाए, यह एजुकेशन मैनेजमेंट एंड टेक्नोलाजी जैसे क्षेत्र में पढ़ाया जाता है।
कोर्स स्ट्रक्चर
एजुकेशन मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के कोर्स को काफी अलग तरह से बनाया गया है जिसमें मैनेजमेंट प्रैक्टिसेस इन एजुकेशन से लेकर प्रोसेस व सिस्टम के बारे में जानकारी दी जाती है। कम्युनिकेशन और टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी देने के अलावा टोटल क्वालिटी मैनेजमेंट इन एजुकेशन व फाइनेंस एंड अकाउंटिंग इन एजुकेशन इंस्टीट्यूट जैसे विषय भी पढ़ाए जाते हैं। शिक्षा के क्षेत्र में नियमों के अलावा एजुकेशन इंस्टीट्यूट को कैसे चलाया जाता है यह भी बताया जाता है।
कुल मिलाकर यह ऐसा नया क्षेत्र है जिसकी मांग धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है। भविष्य में विदेशी यूनिवर्सिटीज और भारतीय शिक्षण संस्थाओं के बीच टाई अप होने के बाद एजुकेशन मैनेजमेंट के क्षेत्र में प्रोफेशनल डिग्री प्राप्त लोगों की मांग बनने की पूर्ण उम्मीद है और वर्तमान में भी कई भारतीय शिक्षण संस्थाओं में ऐसे प्रोफेशनल्स की मांग काफी है।

 

और भी पढ़ें :