डॉ. संजय गुप्ता : अमेरिका के नए सर्जन जनरल?

WD|
वेबदुनिया डेस्

भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक संजय गुप्ता को अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमेरिकी के पद के लिए अनुरोध किया है। भारतीय मूल के डॉक्टर के लिए अमेरिकी सर्जन जनरल का पद पाना कई मायनों में महत्वपूर्ण होगा। अमेरिका में पहले भी कई मौकों पर भारतीय मूल के डॉक्टर अपने हुनर से धूम मचा चुके हैं और यदि डॉक्टर गुप्ता अमेरिकी सर्जन जनरल बन गए तो इसमें आश्चर्यजनक कुछ नहीं होगा।


सूत्रों के मुताबिक डॉक्टर गुप्ता की विशेषज्ञता, अनुभव और उपलब्धियाँ देखते हुए अमेरिकी सर्जन जनरल पद के लिए उनका दावा सबसे मजबूत है। साथ ही उन्हें 20 जनवरी को अमेरिका के राष्ट्रपति पद की शपथ लेने वाले बराक ओबामा का समर्थन भी हासिल है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि डॉक्टर गुप्ता ही नए अमेरिकी सर्जन जनरल हो सकते हैं।

फिलहाल सीएनएन के मुख्य चिकित्सा संवाददाता के रूप में कार्यरत डॉक्टर गुप्ता ने अपने करियर में कई चुनौतीपूर्ण कार्यों को अंजाम दिया है। सीएनएन पर उनका हेल्थ शो 'फिट नेशन' बहुत लोकप्रिय रहा है। इसके अलावा उन्होंने कई बार परिस्थितियों की परवाह किए बगैर अपना कर्त्तव्य निभाया है।

अमेरिकी सर्जन जनरल पद के लिए नवनिर्वाचित राष्ट्रपति बराक ओबामा की पहली पसंद डॉक्टर गुप्ता व्हाइट हाउस के लिए अंजाना नाम नहीं हैं। वे 1997 में अमेरिका की पहली महिला हिलेरी क्लिंटन की 15 सदस्यीय सलाहकार समिति के सक्रिय सदस्य रह चुके हैं।

60 के दशक में डॉक्टर गुप्ता के माता-पिता सुभाष गुप्ता और माता दम्यंती गुप्ता भारत से आकर अमेरिका में बस गए। संजय के पिता इंजीनियर थे। संजय ने अमेरिका के मिशिगन राज्य से बायोमेडिकल में स्नातक डिग्री ली। फिर मिशिगन यूनिवर्सिटी से न्यूरोलॉजिकल सर्जरी में डिग्री हासिल की।
2003 में डॉक्टर गुप्ता युद्ध के हालात में इराक गए। उन्होंने वहाँ घायल अमेरिकी सैनिक और हताहत कई इराकी नागरिकों की सर्जरी की। 2003 में ही अमेरिका की प्रतिष्ठित पीपुल मैग्जीन ने डॉक्टर गुप्ता को सेक्सीएस्टमैन ऑफ द ईयर घोषित किया।

सीएनएन में काम करने के अलावा डॉक्टर गुप्ता इमोरी यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल और ग्रेडी मेमोरियल हॉस्पिटल में सर्जरी भी करते हैं। अपने प्रसिद्ध हेल्थ शो 'फिट नेशन' के अलावा वे स्वास्थ्य संबंधित कई डॉक्यूमेंट्री फिल्में बना चुके हैं। चाहे 2001 का आतंकवादी हमला हो या इराक युद्ध या फिर 2006 की कैटरीना तूफान की तबाही, डॉक्टर गुप्ता ने हर मुश्किल समय में सीएनएन के लिए स्वास्थ्य कार्यक्रम करते हुए अपनी सेवाएँ दी हैं।
इमोरी यूनिवर्सिटी के डीन डॉक्टर जेम्स कुरन कहते हैं कि इस समय डॉक्टर गुप्ता से बेहतर कोई व्यक्ति नहीं है, जो जटिल स्वास्थ्य समस्याओं को सही तरीके से समझ सके और उनका निदान खोजने की दिशा में सार्थक प्रयास कर सके।



और भी पढ़ें :