कैसे पाएँ दिव्य संतानें

दिव्य संतान पाएँ गर्भ संस्कार से...

WD
प्राचीनकाल से ही भारतीय संस्कृति में मनुष्य के लिए जन्म से मृत्यु तक सोलह संस्कारों की व्याख्या की गई है। इनमें गर्भ संस्कार भी एक प्रमुख संस्कार माना गया है। चिकित्सा विज्ञान यह स्वीकार कर चुका है कि गर्भस्थ शिशु किसी चैतन्य जीव की तरह व्यवहार करता है तथा वह सुनता और ग्रहण भी करता है। माता के गर्भ में आने के बाद से गर्भस्थ शिशु को संस्कारित किया जा सकता है तथा दिव्य संतान की प्राप्ति की जा सकती है।

महाभारत काल में अर्जुन द्वारा अपनी पुत्नी सुभद्रा को चक्रव्यूह की जानकारी देने और अभिमन्यु द्वारा उसे ग्रहण करके सीखने की पौराणिक कथा मात्र एक उदाहरण है जिससे गर्भस्थ शिशु के सीखने की बात प्रामाणिक साबित होती है। सभी धर्मों में यह बात किसी न किसी रूप मेंकही गई है। जैन धर्म में गर्भस्थ भगवान महावीर के गर्भस्थ जीवन के बारे में आचार्य भद्रबाहू स्वामीजी ने कल्पसूत्र नामक ग्रंथ में वर्णन किया है।

बाइबल में गर्भस्थ मरियम और उनकी सहेली अलीशिबा दोनों के बीच संवाद हुआ है वह गर्भस्थ शिशु के संवेदनशील स्थिति की ओर संकेत करता है। अलीशीबा मरियम से कहती है कि आपके गर्भ में दिव्य भगवान के अस्तित्व को महसूस करके मेरे गर्भ का शिशु आनंद से उछल रहा है। पौराणिक कथाओं में भक्त प्रहलाद जब गर्भ में थे तब उनकी माँ को घर से निकाल दिया गया था। उस समय देवर्षि नारद मिले और अपने आश्रम में शरण दी। वहाँ नारायण नारायण का अखंड जाप चल रहा था।
  चिकित्सा विज्ञान यह स्वीकार कर चुका है कि गर्भस्थ शिशु किसी चैतन्य जीव की तरह व्यवहार करता है तथा वह सुनता और ग्रहण भी करता है। माता के गर्भ में आने के बाद से गर्भस्थ शिशु को संस्कारित किया जा सकता है तथा दिव्य संतान की प्राप्ति की जा सकती है।      


आधुनिक चिकित्सा विज्ञान परीक्षणों द्वारा यह सिद्ध कर चुका है कि गर्भस्थ शिशु माता के माध्यम से सुन-समझ सकता है तथा ताउम्र उसे याद रख सकता है। इसे सिद्ध करने के लिए एक उदाहरण ही काफी है कि यदि सोनोग्राफी करते समय गर्भवती को सुई चुभोई जाए तो गर्भस्थ शिशु तड़प जाता है तथा रोने लगता है। इसे सोनोग्राफी के नतीजों में देखा जा सकता है।

कैसे पाएँ दिव्य संताने
मातृत्व एक वरदान है तथा प्रत्येक गर्भवती एक तेजस्वी शिशु को जन्म देकर अपना जन्म सार्थक कर सकती है। दुर्भाग्यवश इस संवेदनशील स्थिति को गर्भवती महिलाएँ कुटुंब और समाज सभी नजरअंदाज कर रहे हैं। गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क का विकास गर्भवती की भावनाएँ, विचार, आहार एवं वातावरण पर निर्भर होता है।

ND|
- डॉ. जेम्स निकोलस
डॉ.अरनाल्ड शिबेल (न्यूरोलॉजिस्ट) कहते हैं कि यदि गर्भवती आधे घंटे तक क्रोध या विलाप कर रही हो तो उस दरमियान गर्भस्थ शिशु के मस्तिष्क का विकास रुक जाता है जिसका नतीजा गर्भस्थ शिशु कम बौद्धिक क्षमता के साथ जन्म लेता है। यह महत्वपूर्ण बात हम जानते ही नहीं हैं। गर्भस्थ शिशु का मस्तिष्क न्यूरोन सेल्स से बना होता है। यदि मस्तिष्क में न्यूरोन सेल्स की मात्रा अधिक है तो स्वाभाविक रूप से शिशु के बौद्धिक कार्यकलाप अन्य शिशुओं की अपेक्षा बेहतर होते हैं।



और भी पढ़ें :