1. समाचार
  2. आजादी का अमृत महोत्सव
  3. कल, आज, कल
  4. timeline : Major events of 75 years of Indias independence
Written By कमलेश सेन
पुनः संशोधित शनिवार, 13 अगस्त 2022 (17:47 IST)

आजादी के 75 साल : इंदिरा गांधी की हत्या, अं‍तरिक्ष में भारत का कदम

1977- इसी वर्ष करीब 21 माह के बाद इंदिरा गांधी ने आपातकाल को हटाया और लोकसभा को भंग कर नए चुनाव का ऐलान किया, साथ ही आपातकाल में बंदी राजनीतिक नेताओं को रिहा करने के आदेश दिए। जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में इंदिराजी की सत्ता को उखाड़ने के संकल्प और संपूर्ण क्रांति के उद्घोष के चलते सभी राजनीतिक दलों को एक मंच पर लाकर जनता पार्टी का गठन किया और 77 के आम चुनाव में पहली बार देश में गैर कांग्रेसी सरकार केंद्र में काबिज हुई। मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने। हलधर किसान, जो जनता पार्टी का चुनाव चिन्ह था, ने सभी क्षेत्रों में महती सफलता चुनाव में हासिल की। कांग्रेस के कई दिगज्जों को पराजय का सामना करना पड़ा।
 
1978- मोरारजी ने जनवरी 1978 को 1, 5 एवं 10 हजार के नोट बंद किए। संसदीय विशेषाधिकार के हनन का आरोप के तहत इंदिरा गांधी को गिरफ्तार किया गया और बाद में रिहा कर दिया गया।
 
1979- संपूर्ण क्रांति के नायक और देश में पहली गैर कांग्रेसी सरकार को सत्ता प्राप्ति में अहम् भूमिका वाले जयप्रकाश नारायण का निधन हुआ। देश की पहली जनता पार्टी सरकार के प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के चौधरी चरणसिंह से मतभेद के चलते पद से इस्तीफा और कांग्रेस के समर्थन से चौधरी चरण सिंह प्रधानमंत्री बने। कांग्रेस के समर्थन वापस लेने से यह सरकार भी ज्यादा नहीं चल पाई और देश में पुन: मध्यावधि चुनाव की घोषणा की गई। मदर टेरेसा को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मनित किया गया।
 
1980- देश में संपन्न आम चुनाव में कांग्रेस को प्रचंड बहुमत प्राप्त हुआ और इंदिरा गांधी पुन: देश की प्रधानमंत्री चुनी गईं। हिन्दी सिनेमा में अपनी आवाज का जादू फ़ैलाने वाले महान गायक मोहम्मद रफ़ी का निधन हुआ। प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पुत्र और राजनेता संजय गांधी का विमान दुर्घटना में निधन हो गया। इस वर्ष देश की राजनीति में भारतीय जनता पार्टी के रूप में अटलबिहारी ने नए दल का गठन किया।
 
1981- भारत में निर्मित संचार उपग्रह एप्पल लांच किया गया। दिल्ली से श्रीनगर जा रहे इंडियन एयरलाइंस के विमान का अपहरण कर पाकिस्तान ले जाया गया। आरोपी गिरफ्तार।
 
1982- एशियाई खेलों का दिल्ली में भव्य आयोजन। देश में टेलीविज़न से रंगीन प्रसारण का श्रीगणेश। भूदान आंदोलन के प्रणेता आचार्य विनोवा भावे का निधन हुआ। अंटार्कटि‍क में पहला भारतीय अभियान दल पहुंचा। 
 
1983- रिचर्ड एटनबरो द्वारा निर्मित 'गांधी' फिल्म 8 ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित। भारत द्वारा प्रुडेंशियल विश्व कप क्रिकेट में भारत की शानदार जीत।
 
1984- पंजाब में सिख आंदोलन और अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर परिसर में जनरल भिंडरावाले और उनके साथियों के कब्जे से मुक्ति के लिए भारतीय सेना ने अभियान चलाया जिसे 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' नाम दिया गया यह अभियान इंदिरा गांधी के आदेश पर हुआ। इस बात से सिख समाज नाराज था। इसी नाराजगी के चलते इंदिरा गांधी के सिख अंगरक्षकों ने उनकी हत्या कर दी। इस हत्याकांड के बाद देश में सिख विरोधी दंगे देशभर में हुए।
 
राकेश शर्मा अंतरिक्ष में पहुंचने वाले पहले भारतीय बने थे। राजीव गांधी देश के प्रधानमंत्री बनाए गए। इसी वर्ष देश की सबसे भीषण औद्योगिक दुर्घटना भोपाल में हुई। यूनियन कार्बाइड के प्लांट में मिक गैस के रिसाव से हजारों लोग मारे गए। भोपाल में सब तरफ हाहाकार मच गया। चारों ओर भगदड़ थी। चारों तरफ लाशों के ढेर थे। इस वर्ष हुए आम चुनाव में कांग्रेस को सहानुभूति लहर मिली, जो इंदिरा गांधी के निधन से कांग्रेस को मिली और इन चुनावों में जबर्दस्त बहुमत प्राप्त कर एक कीर्तिमान बनाया।
 
1985- एयर इंडिया का विमान कनिष्क दुर्घटनाग्रस्त। 300 से भी अधिक यत्रियों की मौत।
 
1986- देश में नई शिक्षा प्रणाली लागु की गई। राजीव गांधी सरकार और मुस्लिम महिला शाहबानो अपने-अपने निर्णयों से देश भर में चर्चित रहे। शाहबानो इंदौर की निवासी थीं।
ये भी पढ़ें
आजादी के 75 साल : राजीव गांधी और राजकपूर का निधन