उत्तराखंड में सरकार बनाने की जुगत में कांग्रेस

देहरादून| भाषा|
में कड़े संघर्ष के बाद आखिरकार सीटों की संख्या के लिहाज से राजनीतिक तस्वीर साफ हो गई। ने सत्ताधारी भाजपा के मुकाबले एक सीट अधिक जीतने के साथ ही सरकार बनाने की कवायद शुरू कर दी और राज्यपाल के समक्ष दावा भी पेश कर दिया। पार्टी के सूत्रों का कहना है कि वह निर्दलीय विधायकों के सहारे सरकार गठित करेगी।

राज्य की कुल 70 सीटों में से कांग्रेस ने 32 सीटें जीती हैं, जो बहुमत के जादुई आंकड़े से 4 कम है। भाजपा को 31 सीटें मिली हैं।

कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पार्टी 3 निर्दलीय सदस्यों और उत्तराखंड क्रांति दल (उक्रांद) से समर्थन लेगी। उक्रांद (पी) को एक सीट मिली हैं। इन 4 सीटों के सहारे कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा हासिल करने की कोशिश में है।
पिछली बार आठ सीटें जीतने वाली बसपा को इस बार तीन सीटें मिली हैं। ऐसे में मायावती की पार्टी की भूमिका सरकार के गठन में महत्वपूर्ण हो सकती है। अब बसपा और अन्य उम्मीदवार तय करेंगे कि राज्य में अगली सरकार किसकी होगी, हालांकि कांग्रेस और भाजपा दोनों निर्दलियों को साथ लेकर अपनी स्थिति मजबूत करना चाहेगी।

कांग्रेस के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने के साथ ही पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज शाम राज्यपाल मार्गरेट अल्वा से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया। सूत्रों का कहना है कि कल पार्टी के विधायक दल की बैठक बुलाई गई है।
भाजपा को मुख्यमंत्री भुवन चंद खंडूरी की हार के रूप में बड़ा झटका लगा है। कोटद्वार सीट पर खंडूरी को कांग्रेस उम्मीदवार सुरेंद्र सिंह नेगी ने 4632 मतों से पराजित कर दिया। वर्ष 2000 में राज्य के गठन के बाद यह पहली बार है कि कोई मुख्यमंत्री चुनाव हारा है।

हार के बाद खंडूरी ने कहा कि वह अपने क्षेत्र को पूरा वक्त नहीं दे पाए, हालांकि उन्होंने राज्य की जनता का आभार जताया। उन्होंने कहा मैं चुनावों में आशीर्वाद देने के लिए जनता का आभार व्यक्त करता हूं।
सुबह भाजपा ने कुमाउं क्षेत्र की सितारगंज सीट पर जीत दर्ज कर अपना खाता खोला। यहां उसके उम्मीदवार किरण चंद मंडल ने जीत दर्ज की। इसके बाद से भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों के बीच कड़ी टक्कर पूरी दिन जारी रही और रात को अंततक दोनों में मात्र एक सीट का अंतर रहा।

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदयेश ने हलद्वानी में भाजपा की रेणु अधिकारी को पराजित कर दिया। पार्टी के एक और वरिष्ठ नेता हरक सिंह रावत ने भी रूद्रप्रयाग से जीत दर्ज की। उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता मदन कौशिक भी चुनाव जीत गए। उन्होंने कांग्रेस के सतपाल ब्रह्मचारी को पराजित किया। भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष बिशन सिंह चुफल दीदीहाट से चुनाव जीत गए हैं। प्रदेश कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष यशपाल आर्या ने बाजपुर सीट से जीत दर्ज की है।
उधर, कांग्रेस नेता और केंद्रीय मंत्री हरीश रावत ने मुख्यमंत्री पद पर उनकी दावेदारी के बारे में पूछे जाने पर कहा जहां तक मुख्यमंत्री पद का सवाल है, इसका फैसला पार्टी करेगी परंतु मुझे पूरा विश्वास है कि उत्तराखंड में कांग्रेस सरकार बनाएगी। (भाषा)



और भी पढ़ें :