अमेरिका में जमी भारतीय चुनावी नारों की धाक, बिडेन के समर्थन में 14 भारतीय भाषाओं में प्रचार

Last Updated: मंगलवार, 13 अक्टूबर 2020 (09:37 IST)
वॉशिंगटन। अमेरिका में आपको 'ट्रंप हटाओ, अमेरिका बचाओ' 'अमेरिका का नेता कैसा हो, जैसा हो' जैसे ठेठ भारतीय नारे हिन्दी में सुनाई दें, तो चौंकना स्वाभाविक है। लेकिन नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों में भारतीय-अमेरिकी समुदाय को लुभाने के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थकों ने हिन्दी समेत 14 भाषाओं में इसी तरह का अभियान शुरू किया है।
ALSO READ:
ट्रंप की हैरिस पर की गई टिप्पणी को जो बिडेन ने बताया निंदनीय और गरिमा के खिलाफ
सिलिकॉन वैली स्थित एक भारतीय-अमेरिकी दंपति ने हिन्दी में एक डिजिटल ग्राफिक्स अभियान शुरू किया है जिसमें समुदाय के सदस्यों से डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के जो बिडेन और उपराष्ट्रपति पद के लिए नामित कमला हैरिस को समर्थन देने का अनुरोध किया गया है।
बिडेन के समर्थक अजय और विनीता भूटोरिया ने कहा कि 'ट्रंप हटाओ अमेरिका बचाओ' और 'बिडेन, हैरिस को जिताओ, अमेरिका को आगे बढ़ाओ' शीर्षक वाला प्रचार अभियान सोमवार को 14 भारतीय भाषाओं में जारी किया गया। इससे पहले अजय ने बिडेन और हैरिस के समर्थन में भारतीय मूल के लोगों और दक्षिण एशियाई समुदाय को लाने के लिए बॉलीवुड के 2 वीडियो भी जारी किए थे।
म्यूजिक वीडियो 'चले चलो, बिडेन को वोट दो' टीवी एशिया पर प्रचार के तौर पर चल रहा है और इसके अलावा अजय 14 भाषाओं में 'अमेरिका का नेता कैसा हो, जो बिडेन जैसा हो' और 'जागो अमेरिका जागो, बिडेन-हैरिस के वोट दो' के डिजिटल ग्राफिक्स के साथ भी प्रचार अभियान में जुटे हैं।
भूटोरिया ने एक बयान में कहा कि यह अभियान कड़े मुकाबले वाले उन राज्यों पर केंद्रित है, जहां हर वोट मायने रखता है और भारतीय-अमेरिकी समुदाय चुनाव के नतीजों में अहम भूमिका अदा कर सकते हैं। कड़े मुकाबले वाले राज्यों में पेन्सिलवेनिया, विस्कांसिन, मिशिगन, मिनिसोटा के अलावा 3 दक्षिणी राज्य फ्लोरिडा, जॉर्जिया और उत्तरी कैरोलाइना और एरिजोना भी शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि भारतीय-अमेरिकी मत जीत-हार तय करेंगे और कड़े मुकाबले वाले राज्यों में जीत लायक अंतर बनाएंगे। ट्रंप ने 2016 में मिशिगन, विस्कांसिन और पेन्सिलवेनिया में मामूली अंतर से जीत हासिल की थी।
डेमोक्रेटिक समर्थक इस बार भारतीय अमेरिकी और दक्षिण एशियाई समुदाय तक व्यापक पहुंच के लिए 14 भाषाओं में अभियान चला रहे हैं और हर हफ्ते हजारों फोन कॉल कर मतदाताओं को अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम 13 लाख भारतीय अमेरिकी मतों को बिडेन के पक्ष में करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :