मुख्यमंत्री का पुतला फूंक दर्ज कराया विरोध

अवनीश कुमार| पुनः संशोधित शनिवार, 4 फ़रवरी 2017 (16:43 IST)
हमें फॉलो करें
कानपुर। के में चकेरी थाना अंतर्गत जाजमऊ के गज्जुपुरवा में बुधवार की दोपहर सपा नेता महताब आलम की छ: मंजिला बिल्डिंग ढह गई थी। इसमें आठ मजदूरों की मौत हो गई और तीन दर्जन से ज्यादा गायब हैं।
इससे नाराज मजदूरों के परिजनों और आप कार्यकर्ताओं ने का पुतला फूंक जमकर नारेबाजी की। आप के जिला संयोजक अरविन्द कटियार ने कहा कि मुख्यमंत्री चुनाव में लगे हुए हैं और पुलिस प्रशासन मलबे में दबे लोगों के बारे में जानकारी नहीं दे रहा। आप कार्यकर्ताओं का आरोप है कि सपा नेता ने पुलिस की मदद से मृतकों के शव गायब कर दिए हैं। 
 
गौरतलब है कि सपा नेता महताब आलम की बिल्डिंग बुधवार की दोपहर ढह गई थी। पुलिस, प्रशासन, सेना और एनडीआरएफ की टीमें लगातार राहत और बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। बिल्डिंग के चार माले का मलबा टीमों ने साफ कर दिया है, लेकिन बिल्डिंग में काम कर रहे मजदूर नहीं मिले। 
 
इसी को लेकर मजदूरों ने आप कार्यकर्ताओं के साथ गज्जूपुरवा स्थित मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पुतला दहन कर अपना विरोध दर्ज किया। आप नेता विनय श्रीवास्तव ने बताया कि 50 मजदूर बिल्डिंग में काम कर रहे थे। हादसे के बाद आठ लोगों के शव मलबे से बाहर निकाले गए हैं जबकि अभी भी लगभग 35 मजदूर गायब हैं। आप नेता अरविन्द कटियार ने कहा कि मुख्यमंत्री चुनाव में व्यस्त हैं, जबकि प्रशासन आरोपी सपा नेता महताब आलम के साथ मिलकर शवों को गायब करवा दिए हैं। 
 
उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मांग करते हुए कहा कि पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच रिटायर्ड जज से कराएं। साथ ही भगोड़े सपा नेता महताब आलम को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के लिए पुलिस और प्रशासन को निर्देश दें। और मृतक मजदूरों को मुआवजा देने की भी मांग की। आप नेताओं ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री ने एक्शन नहीं लिया तो रविवार को होने वाली रैली में हम लोग मजदूरों के परिजनों के साथ सभा में मुख्यमंत्री के सामने उनका पुतला फिर से दहन करेंगे।



और भी पढ़ें :