2014 में राजस्थान आनेवाले देशी-विदेशी पर्यटकों की संख्या में वृद्धि

जयपुर| भाषा|
किलों, महलों, लोककला और लोकनृत्यों के लिए दुनिया भर में मशहूर राजस्थान में गत वर्ष के मुकाबले में नौ फीसद पर्यटक अधिक आए।
 
विभाग के अनुसार, नवंबर 2014 तक के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में तीन करोड़ पच्चीस लाख अठावन हजार नौ देशी-विदेशी पर्यटक राजस्थान आए, जबकि गत वर्ष इसी अवधि में दो करोड सत्तानवे लाख पचास हजार नौ सौ तीस पर्यटक राजस्थान आए थे।
 
चालू वर्ष में गत वर्ष के मुकाबले, अठाइस लाख से अधिक पर्यटक राजस्थान भ्रमण पर आए हैं। वर्ष 2014 में तीन करोड़, ग्यारह लाख 91 हजार 11 देशी और एक करोड़ 36 लाख 6 हजार 998 विदेशी पर्यटकों ने प्रदेश के पर्यटक स्थलों का भ्रमण किया।
 
राजस्थान पर्यटन विभाग के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार जनवरी से नवंबर तक घरेलू पर्यटकों की संख्या में पिछले वर्ष के मुकाबले 9.53 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। इस अवधि में तीन करोड़ उन्नीस लाख एक हजार ग्यारह पर्यटक आए जबकि गत वर्ष इसी अवधि में दो करोड़ चौरासी लाख 77 हजार चार पर्यटक राजस्थान घूमने आए थे।
 
सिंह ने बताया कि इस वर्ष मई में विदेशी पर्यटकों की संख्या में पिछले वर्ष के मुकाबले 27.16 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। यह वृद्धि जोधपुर, चित्तौड़गढ़, रणकपुर और झुंझुनूं जिलों में पर्यटक स्थलों पर विदेशी पर्यटकों की संख्या में वृद्धि की वजह से हुई। प्रदेश में मई में भीषण गर्मी के चलते देशी-विदेशी पर्यटकों की संख्या आमतौर पर कम रहती है। 
 
वैसे नए पर्यटन मार्ग (दिल्ली-झुंझुंनू-सीकर-जयपुर) विकसित होने के कारण भी देशी ओर विदेशी पर्यटकों में वृद्धि हुई है। उन्होंने बताया कि प्रचंड गर्मी के मई महीने में सूर्य नगरी जोधपुर आने वाले देशी पर्यटकों के मुकाबले विदेशी पर्यटकों की संख्या अधिक रही। उन्होंने बताया कि गत वर्ष 4036 विदेशी पर्यटकों ने जोधपुर का भ्रमण किया, जबकि इस साल 8188 विदेशी पर्यटक जोधपुर पहुंचे।
 
होटल कारोबार से जुडे़ दीपक शर्मा ने बताया कि देशी-विदेशी पर्यटकों में राजस्थान के काल बेलिया नृत्य को लेकर खासा उत्साह रहता है। दस में से छह पर्यटक शाम होते ही काल बेलिया नृत्य देखने की इच्छा जताते हैं। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से बड़ी संख्या में देशी पर्यटक आते हैं ओर सोमवार की सुबह या रविवार देर रात दिल्ली के लिए रवाना हो जाते हैं। कुछ साल पहले राजस्थान में अक्टूबर से मार्च तक पर्यटन सत्र होता था पर अब पूरे साल पर्यटक आते रहते हैं।
 
सिंह ने बताया कि अक्टूबर माह में प्रदेश में घरेलू पर्यटकों की संख्या में 29.21 फीसदी और विदेशी पर्यटको की संख्या में 7.91 फीसदी का इजाफा हुआ। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की ओर से पर्यटकों को दी जा रही सुविधाओं के कारण प्रदेश में पर्यटकों की संख्या में गत वर्ष के मुकाबले 9.44 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। जनवरी से नवंबर तक देशी-विदेशी पर्यटकों की गत वर्ष की संख्या 2 करोड़ 97 लाख 50 हजार 930 थीं, जो इस साल 3 करोड़ 25 लाख 58 हजार 9 दर्ज की गई है।
 
सिंह ने बताया कि जनवरी से अक्टूबर तक उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, प्रदेश में जापान से आने वाले विदेशी पर्यटकों की संख्या 1511, श्रीलंका से 212, पाकिस्तान से 903, बंगलादेश से 183, सिंगापुर से 370, ईरान से 155, दुबई से 167, मलेशिया से 427 रही। अन्य देशों के 36339 पर्यटकों ने प्रदेश का दौरा किया।



और भी पढ़ें :