शॉटपुट से लेकर भाला तक, भारतीय एथलीट उपयोग करेंगे 'मेड इन इंडिया' किट

Last Updated: शुक्रवार, 16 जुलाई 2021 (19:24 IST)
नई दिल्ली:में भले ही भारत के महाशक्ति बनने के आसार नहीं हो लेकिन भारत की उपकरण निर्माता कंपनियां स्टेडियम में ट्रैक और फील्ड स्पर्धाओं के दौरान अपनी उपस्थिति जरूर दर्ज करायेंगी।
विश्व एथलेटिक्स ने जिन छह कंपनियों को शॉटपुट, चक्का और तारगोला फेंक स्पर्धाओं के दौरान उपकरण प्रदान करने की मंजूरी दी है, उनमें भारत की आनंद ट्रैक एंड फील्ड एक्विपमेंट (एटीई), भल्ला इंटरनेशनल और नेल्को शामिल हैं।

ये 23 जुलाई से शुरू हो रहे ओलंपिक के दौरान शॉटपुट (7. 26 किलो), चक्का (2 किलो) और तारगोला (7 . 26 किलो) मुहैया करायेंगी।

एटीई के आदर्श आनंद ने कहा ,‘‘ हम शॉटपुट, चक्काफेंक और तारगोला फेंक में छह छह उपकरण दे रहे हैं। महिला और पुरूष वर्ग की स्पर्धायें मिलाकर हम तोक्यो ओलंपिक में 36 उपकरण देंगें।’’
उन्होंने कहा ,‘‘ हमारे उपकरण 1992 बार्सीलोना ओलंपिक से अब तक ओलंपिक में इस्तेमाल हो रहे हैं ।हमारा सफर तोक्यो में 1991 विश्व चैम्पियनशिप से ही शुरू हुआ था। ’’कंपनी का पंजीकृत कार्यालय मेरठ में और दिल्ली में फैक्ट्री है।

भल्ला इंटरनेशनल भी 36 उपकरण दे रहा है। कंपनी के प्रतिनिधि आशीष भलला ने कहा ,‘‘ हम रियो ओलंपिक 2016 में उच्च स्तरीय उत्पादों के लिये पुरस्कार जीत चुके हैं । हमारी कंपनी और देश के लिये गर्व की बात है कि हम ओलंपिक का हिस्सा हैं।’’
कई खिलाड़ी ओलंपिक में अपने उपकरणों का इस्तेमाल करेंगे लेकिन कई स्पर्धा स्थल पर रैक में रखे उपकरण लेते हैं। नीरज चोपड़ा भालाफेंक में नेमेथ या नोर्डिक ब्रांड का भाला इस्तेमाल करते हैं।

तीन भारतीय स्वदेशी ब्रांड का इस्तेमाल करेंगे जिनमें तेजिंदर सिंह तूर , सीमा पूनिया और कमलप्रीत कौर शामिल हैं। एक अच्छा शॉटपुट, चक्का या तारगोला 6000 से 10000 रूपये के बीच आता है।
आईओए ने भारतीय ओलंपिक टीम के आधिकारिक भागीदार के रूप में एसएफए को चुना
भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने 23 जुलाई से शुरू होने वाले टोक्यो ओलंपिक खेलों 2020 के लिए भारतीय टीम के आधिकारिक भागीदार के रूप में स्पोर्ट्स फॉर ऑल (एसएफए) को चुना है।

आईओए के महासचिव राजीव मेहता ने एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा, “ हम अपने आधिकारिक स्पोर्ट्स एडटेक पार्टनर के रूप में एसएफए को पाकर बहुत उत्साहित हैं। एसएफए, अपने प्रौद्योगिकी संचालित प्लेटफॉर्म और मेगा-स्केल, स्कूल और कॉलेज स्तर पर ऑन-ग्राउंड मल्टी-स्पोर्ट प्रतियोगिताओं के साथ हमारे बच्चों और युवाओं को उनकी सर्वश्रेष्ठ खेल क्षमता को हासिल करने के लिए सशक्त और सक्षम करेगा और इस तरह यह भारत के ओलंपिक सपनों को पूरा करेगा। ”
विज्ञप्ति के मुताबिक एसएफए ने पूरी तरह से एकीकृत डिजिटल (ऑनलाइन और ऑन-ग्राउंड का संयोजन) मंच तैयार किया है जो प्रौद्योगिकी के माध्यम से ऑन-ग्राउंड प्रतियोगिताओं के साथ-साथ खेल शिक्षा को सक्षम बनाता है। साथ ही यह अनुभव और उपकरणों के सही सेट के साथ खेल के 30 विषयों में एथलीटों की पहचान, पोषण और उन्हें सशक्त बनाने में मदद करता है।

एसएफए के संस्थापक ऋषिकेश जोशी और विश्वास चोकसी ने एक बयान में कहा, “ आईओए और भारतीय टीम के साथ हमारा जुड़ाव इस विश्वास में मजबूती से निहित है कि भारत के बच्चों को उनकी खेल यात्रा के शुरुआती चरणों में बेहतरीन खेल मंच प्रदान करके हम प्रतिनिधित्व करने की दिशा में उनकी प्रगति को बढ़ावा दे सकते हैं और आने वाले वर्षों में भारत को वैश्विक खेल मानचित्र में शीर्ष पर ले जा सकते हैं। ”
उल्लेखनीय है कि टोक्यो ओलंपिक के साथ, 2022 राष्ट्रमंडल खेलों और 2022 एशियाई खेलों के लिए भी एसएफए ने अपनी साझेदारी को प्रतिबद्धता से मजबूत किया है।



और भी पढ़ें :