आज का शेर - अंधेरों के दरमियां

WD
FILE


शुमार कर न अभी मेरा इन निगाहों में
मैं इस हजूम से दामन बचा के निकलूंगा,
घिरा हूं आज अंधेरों के दरमियां लेकन

मैं एक मशाले-फ़रदा जला के निकलूंगा।
- अमीर कज़लबाश



और भी पढ़ें :