0

'हमारी कोई औकात नहीं है'

शनिवार,सितम्बर 6, 2008
0
1

कहाँ गए वो दिन

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
‘सर, मेरा बच्चा पढ़ने में बहुत कमजोर है। यदि आप इसे घर पर ट्यूशन पढ़ा दें तो बहुत अच्छा रहेगा।’ एक अभिभावक ने शिक्षक से कहा। ‘लेकिन, मेरे पास समय नहीं है। वैसे भी स्कूल में अतिरिक्त कक्षा लगा रहे हैं, वहाँ भेज देना।’
1
2

एकलव्य

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
पूर्व राष्ट्रपति एवं शिक्षाविद्‍ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की आज जयंती है जिसे शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। सन् 1963 में व्यापक समर्थन से हर साल शिक्षक दिवस 5 सितंबर को मनाया जाता है।
2
3

जीवन गढ़ते हैं शिक्षक...

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
मातृभाषा में शिक्षा का अपना ही मजा हुआ करता है। (आज हमारे नौनिहाल इस सुख से पूर्णतः वंचित कर दिए गए हैं) मातृभाषा में बोलते शिक्षक-शिक्षिकाएँ बनावटीपन से कोसों दूर अपनेपन के साथ सामने होते थे। वो अधिकार भरी डाँट, गलत हिज्जे लगाने पर दीदी (शिक्षिका)
3
4
9. ज़िन्दगी की किताब खोलेंगे साथ अपने गुरु के रहने से जब भी बोलेंगे सच ही बोलेंगे
4
4
5

गुरु की भूमिका चुनौ‍तीपूर्ण

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
गुरु शब्द सुनते ही हमारे मस्तिष्क में छवि बनती है उन शिक्षकों की जिनसे हमने स्कूल या कॉलेज में शिक्षा ग्रहण की हैं। इनके साथ ही गुरु वो भी है जो जिनसे हमें कुछ न कुछ सीख मिले।
5
6
आज शिक्षक दिवस है। दिवसों की भीड़ में एक और दिवस! कहने को आज मैं आपकी शिक्षिका हूँ, किंतु सच तो यह है कि जाने-अनजाने न जाने कितनी बार मैंने आपसे शिक्षा ग्रहण की है।कभी किसी के तेजस्वी आत्मविश्वास ने मुझे चमत्कृत कर‍ दिया तो कभी किसी विलक्षण ...
6
7
आधुनिक युग में शिक्षक की भूमिका महत्वपूर्ण है। शिक्षक वह पथ प्रदर्शक होता है जो हमें किताबी ज्ञान ही नहीं बल्कि जीवन जीने की कला सिखाता है। भारतीय संस्कृति में
7
8

शत् शत् नमन

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
शिक्षक द्वारा दी जाने वाली ज्ञान की जो रफ्तार है, उससे एक दिन ऐसा आ जाएगा जब समूचा ब्रह्मांड ज्ञान के समक्ष छोटा लगेगा। आज बढ़ती प्रतियोगिता और बच्चों के बढ़ते ज्ञान ने जिस प्रकार कर्म के साथ समझौता किया है, उससे लगता है कि ज्ञान और कर्म की शिक्षा ...
8
8
9

सर का वह गुरुमंत्र

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
तब मैं अहिल्याश्रम में पढ़ती थी और श्रीराम ताम्रकर सर हमें नागरिक शास्त्र पढ़ाया करते थे। एक अच्छे इंसान होने के साथ-साथ एक अच्छे गुरु भी वे रहे। मुझे याद है, फिल्म जैसे विषय पर बात करने पर भी जहाँ अन्य शिक्षक डाँट पिलाते थे, वहीं ताम्रकर सर फिल्म ...
9
10

कहाँ हैं ऐसे शिक्षक?

शुक्रवार,सितम्बर 5, 2008
भारी वर्षा के दिन थे, कमरे की छत से बूँदें टपक रही थीं। चटाई पर बैठे बच्चे अपने शिक्षक की बात ध्यान से सुन रहे थे। कक्षा में कुल दस बच्चे थे। गरीबी एवं घर की जिम्मेदारी जल्द उठाने के लिए अधिकांश बच्चे कम उम्र में ही स्कूल छोड़ रहे हैं। परंतु एक ...
10
11
आज के युग में ज्ञान उपलब्ध है हुनर भी उपलब्ध है फिर भी ज्ञान और हुनर होने के बाद भी शिक्षकों की जरूर‍त आज भी है इस देश को दुनिया को
11
12

शिक्षा का स्रोत शिक्षक

सोमवार,सितम्बर 1, 2008
गुरु और शिष्य के बीच एक अनोखा रिश्ता होता है। गुरु एक घने वृक्ष की तरह अपने शिष्य को हर तरह से छाया प्रदान करता है। चाहे वह एक पिता की भूमिका हो, एक गुरु की या फिर एक पथप्रदर्शक की
12