अमित और पूजा का जबर्दस्त प्रदर्शन, एशियाई चैंपियनशिप में जीते स्वर्ण

Last Updated: शनिवार, 27 अप्रैल 2019 (01:16 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। एशियाई खेलों के स्वर्ण विजेता और पूजा रानी ने जबर्दस्त प्रदर्शन करते हुए बैंकॉक में एशियाई मुक्केबाजी प्रतियोगिता के अंतिम दिन शुक्रवार को भारत को 2 दिला दिए।

भारत के 6 मुक्केबाज इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे थे जिनमें से अमित पंघल ने 52 किग्रा वर्ग में और पूजा ने 51 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीते। सिमरनजीत कौर बाथ को 64 किग्रा, राष्ट्रीय चैंपियन दीपक सिंह को 49 किग्रा, कविंदर सिंह बिष्ट को 56 किग्रा वर्ग और आशीष कुमार को 75 किग्रा के फाइनल में हारकर रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

भारत ने अब तक प्रतियोगिता में 2 स्वर्ण, 4 रजत और 7 कांस्य सहित कुल 13 पदक जीत लिए हैं। पुरुष मुक्केबाजों ने 1 स्वर्ण, 3 रजत और 3 कांस्य पदक जबकि महिला मुक्केबाजों ने 1 स्वर्ण, 1 रजत और 4 कांस्य पदक जीते हैं। पुरुष मुक्केबाजों ने इस तरह 10 साल पहले के अपने प्रदर्शन को पीछे छोड़ दिया, जब 2009 में भारतीय मुक्केबाजों ने 1 स्वर्ण, 2 रजत और 4 कांस्य पदक जीते थे।
अमित पंघल ने शुक्रवार को कोरिया के इन्कियू किम को 52 किग्रा भार वर्ग के फाइनल में पराजित करने के साथ भारत को एशियन मुक्केबाजी चैंपियनशिप का पहला स्वर्ण पदक दिला दिया।

अमित ने गत वर्ष एशियाई खेलों का स्वर्ण जीता था। भारतीय मुक्केबाज ने फाइनल में अपने कोरियाई प्रतिद्वंद्वी को जजों के सर्वसम्मत फैसले से हराया। इस वर्ष यह अमित का लगातार दूसरा स्वर्ण पदक भी है। इससे पहले फरवरी में उन्होंने स्ट्रैंडजा मेमोरियल टूर्नामेंट में भी स्वर्ण जीता था। इस वर्ष 49 किग्रा से 52 किग्रा भार वर्ग में शामिल होने के बाद यह उनका पहला अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट भी है।
भारत के पहले स्वर्ण के बाद पूजा रानी ने गजब का प्रदर्शन किया और मौजूदा विश्व चैंपियन चीन की वांग लीना को हराकर स्वर्ण पदक जीता। वांग के खिलाफ कोई भी पूजा को अधिक भाव नहीं दे रहा था लेकिन इस भारतीय मुक्केबाज ने विश्व चैंपियन का डटकर मुकाबला करते हुए जीत अपने नाम की।

हालांकि राष्ट्रीय चैंपियन दीपक सिंह को अपने 49 किग्रा वर्ग में रजत से संतोष करना पड़ा। उन्हें फाइनल में उज्बेकिस्तान के नोदिरजोन मिर्जाहमेदोव ने हराकर स्वर्ण जीता। सिमरनजीत 64 किग्रा में मौजूदा विश्व चैंपियन दोऊ दान से हारकर रजत पर ठिठक गई। कविंदर को एशियाई खेलों के चैंपियन उज्बेकिस्तान के मिराजिजबेक मिर्जाखालिलोव ने फाइनल में पराजित किया।
पुरुष वर्ग में शिवा थापा (60), आशीष (69) और सतीश कुमार (91 से अधिक) तथा महिलाओं में एल. सरिता देवी (60), मनीषा (54), निखत जरीन (51) और सोनिया चहल (57) ने कांस्य पदक जीते। (वार्ता)



और भी पढ़ें :