भगवान कृष्ण ने किए ये 5 बड़ी भेद नीति

को राजनीति और कूटनीति में दक्ष माना गया है। उनकी छलपूर्ण नीति के कारण उनकी आलोचना भी होती रही है, जबकि सत्य और धर्म के लिए उन्हें यह करना जरूरी था। यदि वे ऐसा नहीं करते तो अधर्म की जीत होती और समाज में अधर्म का ही राज स्थापित हो जाता।
वैसे तो श्रीकृष्ण द्वारा किए गए कई या कहें कि कूटनीति के किस्से महाभारत में भरे पड़े हैं, लेकिन कुछ ऐसी नीति थी जिसको लेकर आज तक श्रीकृष्ण की आलोचना होती है। भगवान कृष्ण की जिन छलपूर्ण नीतियों के लिए उनकी आलोचना होती है आओ जानते हैं उनमें से प्रमुख 5 छलपूर्ण कृत्य....> >
अगले पन्ने पर पहला छल...



और भी पढ़ें :