1. समाचार
  2. रूस-यूक्रेन वॉर
  3. न्यूज़ : रूस-यूक्रेन वॉर
  4. Russia-Ukraine war : Putin use nuclear bomb on Ukraine?
Written By
Last Updated: सोमवार, 28 फ़रवरी 2022 (19:08 IST)

Russia Ukraine War Update : रूस के हमले से यूक्रेन में 16 बच्चों की मौत, 45 घायल, परमाणु हमले की तैयारी?

मास्को। Ukraine Russia Crisis:  एक तरफ जहां बेलारूस में रूस और यूक्रेन के अधिकारी शांति वार्ता कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ दुनिया को डराने वाली बड़ी खबर आ रही है। 
 
रूस की एजेंसी के मुताबिक रूस ने न्यूक्लियर ट्रायड को अलर्ट पर रखा है। रूस के रक्षा मंत्री ने राष्ट्रपति पुतिन को यह जानकारी दी है। 
कल ही रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रूसी परमाणु बलों को ‘हाईअलर्ट’ पर रखने का आदेश दिया था।  पुतिन ने कहा कि नाटो के प्रमुख सदस्य देशों द्वारा 'आक्रामक बयानबाजी' की प्रतिक्रिया में उन्होंने यह निर्णय लिया। अगर रूस यूक्रेन पर परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करेगा तो दुनिया पर परमाणु युद्‍ध छिड़ने की आशंका है।
आज ही यूक्रेनी राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने दावा किया था कि 4,500 से अधिक रूसी सैनिक मारे गए हैं। उन्होंने रूसी सैनिकों से हथियार डाल देने और चले जाने का आह्वान किया।

युद्ध की शुरुआत से ही रूसी राष्ट्रपति पुतिन नाटो देशों को लगातार परमाणु हमले की धमकी दे रहे हैं। बीते गुरुवार को ही पुतिन ने यूक्रेन का समर्थन करने वाले देशों को सख्त धमकी देते हुए कहा कि अगर बाहर के किसी भी देश ने बीच में दखल दिया तो उसे ऐसे परिणाम भुगतने होंगे जो उसने आज तक इतिहास में कभी देखा नहीं होगा।

16 बच्चों की मौत, 45 घायल : यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा है कि रूस के हमले में यूक्रेन के 16 बच्चों की मौत हो गई है और 45 अन्य घायल हो गए हैं। राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने सोमवार को एक वीडियो संदेश में कहा कि कब्जा करने वालों द्वारा किए गए हर अपराध, गोलाबारी हमारे भागीदारों और हमें और भी करीब लाती है।

सबसे ज्यादा न्यूक्लियर वेपन : दुनिया में सबसे ज्यादा 5 हजार 977 परमाणु हथियार रूस के पास हैं जबकि अमेरिका के पास रूस से कम 5 हजार 428 परमाणु हथियार है। इसके अलावा चीन के पास 350, फ्रांस के पास 290, ब्रिटेन पर 225 और भारत के पास 160 न्यूक्लियर वेपन हैं।
  
5 लाख से अधिक लोगों ने छोड़ा देश : संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने सोमवार को कहा कि पिछले सप्ताह रूस द्वारा आक्रमण किए जाने के बाद पांच लाख से ज्यादा लोगों ने यूक्रेन छोड़ दिया है। संयुक्‍त राष्ट्र के शरणार्थी मामलों के उच्चायोग (यूएनएचसीआर) प्रमुख फिलिपो ग्रांडी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी।
 
जिनेवा स्थित यूएनएचआरसी की प्रवक्ता शाबिया मंटू ने कहा कि यूक्रेन के 2,81,000 लोगों ने पोलैंड में प्रवेश किया है और हंगरी में 84,500 से अधिक, मोल्दोवा में लगभग 36,400, रोमानिया में 32,500 से अधिक लोगों तथा स्लोवाकिया में लगभग 30,000 लोग पहुंचे हैं।

उन्होंने कहा कि शेष लोग अन्य देशों में गए हैं। यूक्रेन से सैकड़ों शरणार्थियों को लेकर एक और ट्रेन सोमवार तड़के दक्षिण-पूर्वी पोलैंड के प्रेजेमिस्ल शहर पहुंची।


योरपीय देशों ने भेजे यूक्रेन को हथियार : अमेरिका और कुछ यूरोपीय देशों ने कहा कि वे यूक्रेन को अधिक स्टिंगर मिसाइल और लड़ाकू विमानों समेत हथियारों की आपूर्ति बढ़ा रही हैं। इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की के कार्यालय ने सोमवार को बेलारूस की सीमा पर एक रूसी प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक की योजना की घोषणा की। यूक्रेन पर रूस के हमले को पांच दिन हो गए हैं। यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव की सड़कों पर युद्ध चल रही है जबकि सैनिक राजधानी कीव के नज़दीक पहुंच रहे हैं। 
 
नाटो ने बताया खतरनाक : शीत युद्ध के बाद लंबे समय से दबे डर को सामने लाते हुए पुतिन ने रूस के परमाणु हथियारों को इस्तेमाल के लिए तैयार रखने का रविवार को आदेश दिया। उन्होंने कहा कि नाटो ने रूस के प्रति "आक्रामक बयान" दिए थे और रूस पर लगाए कड़े आर्थिक प्रतिबंधों का हवाला दिया। नाटो महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने सीएनएन को बताया कि पुतिन का रूस के परमाणु बलों को अलर्ट रहने की बात कहना खतरनाक है।
 
कीव के करीब, खारकीव में छिड़ी लड़ाई : रूसी सैनिक लगभग 30 लाख की आबादी वाले शहर कीव के करीब आ गए हैं और खारकीव में सड़कों पर लड़ाई छिड़ गई। दक्षिण में सामरिक बंदरगाह हमलावरों के दबाव में आ रही हैं। यूक्रेनी बलों ने कड़ा प्रतिरोध किया जिससे हमला धीमा होता प्रकट हो रहा है। मगर अमेरिका के एक अधिकारी ने चेताया है कि शक्तिशाली रूसी बल इससे सबक सीखेंगे और अपनी रणनीति बनाएंगे जिससे हमला जारी रहेगा।
 
भयभीत हुए लोग : भयभीत निवासियों ने घरों में, भूमिगत गैराज में और सबवे स्टेशों में आसरा लिया है। द्वितीय विश्व युद्ध में बची 87 वर्षीय यहूदी महिला फैना बिस्ट्रिट्स्का ने कहा, “ काश मैं इसे देखने के लिए जीवित नहीं होती। अधिकारियों ने बताया कि यूक्रेन सैन्य अनुभव रखने वाले और देश के लिए लड़ने की चाहत रखने वाले कैदियों को भी रिहा कर रहा है।
 
अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन के अधिकारियों ने कहा है कि यूक्रेन के प्रतिरोध, ईंधन की कमी और साजो-सामान से संबंधित अन्य परेशानियों से रूसी सैनिकों की रफ्तार धीमी पड़ी है और यूक्रेन की वायु रक्षा प्रणाली कमजोर है लेकिन अब भी काम कर रही है।
बेलारूस में बातचीत : बेलारूस के शहर होमेल में मिलने की पुतिन की पेशकश को खारिज करने के बाद ज़ेलेंस्की बेलारूस के पास एक स्थान पर रूसी प्रतिनिधिमंडल से मिलने के लिए यूक्रेन के प्रतिनिधिमंडल को भेजने पर राज़ी हो गए हैं। इससे पहले उन्होंने इस आधार पर इसे खारिज किया था कि बेलारूस युद्ध में रूस का साथ दे रहा है। क्रेमलिन ने बाद में कहा कि इज़राइल के प्रधानमंत्री नेफ्ताली बेनेट ने पुतिन से फोन पर बातचीत के दौरान युद्ध समाप्त करने के लिए मध्यस्थता की पेशकश की है।
ये भी पढ़ें
सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर नोएडा में जुड़वां इमारतें 22 मई तक तोड़ी जाएंगी