गणतंत्र दिवस पर कविता : हमारा अभिमान

26 January Poem
गणतंत्र दिवस का मौका पूरे देश के लिए गर्व और गौरव का विषय है। इस अवसर पर पूरे देश में पूरी गरिमा के साथ आयोजन किए जाते हैं। आइए इस अवसर पर आपके लिए प्रस्तुत हैं खासतौर से गणतंत्र दिवस को ध्‍यान में रखकर लिखी गई खास कविता-


गणतंत्र दिवस कविता


हमारा अभिमान
गणतंत्र हमारा अभिमान है
तिरंगा हमारी शान है
पहले अपना देश बचाया
अंग्रेजों को वापस भगाया
तब जाकर अपना संविधान बनाया
हमारा संविधान हमारी आन है
तिरंगा हमारी शान है
सीने पर गोली खाते हैं
अपनी जान गंवाते हैं
इस तरह शहीद अपना देश बचाते हैं
देश के आगे छोटी हमारी जान है
तिरंगा हमारी शान है
यहां पावन गंगा बहती है
सोने की चिड़िया रहती है
लेकिन आजादी से जीने की बात कहती है
आजादी से जीने का स्वाभिमान है
तिरंगा हमारी शान है
गणतंत्र हमारा अभिमान है



और भी पढ़ें :