गुरुवार, 29 फ़रवरी 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. धर्म-दर्शन
  3. धार्मिक आलेख
  4. Sri Sri Tattva Panchakarma Center of Art of Living
Written By WD Feature Desk
Last Updated : सोमवार, 12 फ़रवरी 2024 (17:57 IST)

दक्षिण एशिया में पहली बार, भारत में एक नवीन दर्द चिकित्सा पद्धति का शुभारंभ

Shri Shri Ravi Shankar
बेंगलुरु, 12 फरवरी, 2024। आर्ट ऑफ लिविंग के अंतर्राष्ट्रीय केंद्र में आध्यात्मिक गुरु और मानवतावादी गुरुदेव श्री श्री रविशंकर से दक्षिण एशिया में पहली बार, 20 चिकित्सकों ने एक लोकप्रिय यूरोपीयन प्राकृतिक दर्द निवारण पद्धति, लिबशर और ब्रैच पेन थैरेपी के लिए अपने प्रशिक्षण प्रमाणपत्र प्राप्त किए। भारत में जटिल दर्द के प्रसार में चिंताजनक वृद्धि होने और दर्द की अस्थायी दवाओं पर अत्यधिक निर्भरता के कारण दर्द चिकित्सा की नवीन पद्धति में दर्द निवारक दवाओं के दुष्प्रभावों के बिना प्राकृतिक और स्थायी उपचार की अपार संभावनाएं दिखायी देती हैं।
गुरुदेव ने कहा, "हमें विश्व के हर भाग से जो भी अच्छा है उसे सीखना चाहिए, 'मानसिक दर्द से राहत के लिए ज्ञान है और शारीरिक दर्द से राहत के लिए दर्द चिकित्सा है। यह ज्ञान अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचना चाहिए। विश्व की आबादी का पांचवां हिस्सा भारत में रहता है। इसलिए हम पीड़ा-मुक्त प्रसन्न समाज बनाने के लिए अधिक से अधिक लोगों को प्रशिक्षित करेंगे। स्वस्थ शरीर, स्वस्थ मन और प्रसन्न आत्मा हमारा लक्ष्य है।'
 
जर्मनी के रहने वाले, रोलैंड लिबशर-ब्रैच और डॉ. पेट्रा ब्रैच ने एक ऐसी दर्द चिकित्सा पद्धति विकसित करने में 35 साल लगाए हैं जिसमें शरीर के अधिकांश हिस्सों में दर्द के लिए सिर से पांव तक 72 दबाव बिंदुओं पर गति और ऑस्टियोप्रेशर का उपयोग करके सभी प्रकार की मस्कुलोस्केलेटल पीड़ा के मूल कारण को दूर किया जाता है। 
 
रोलैंड लिबशर-ब्रैच ने बताया, 'नए चिकित्सकों द्वारा लिए गए सत्रों के अच्छे परिणाम देखकर मुझे प्रसन्नता हुई,' मैं उनकी गुणवत्ता देखकर वास्तव में आश्चर्यचकित हुआ। पीड़ा मुक्त होना बहुत आवश्यक है। हम पीड़ा से मुक्ति को बहुत सरल बनाते हैं। हमने पाया कि शरीर में ज्यादातर दर्द मांसपेशियों और प्रावरणी में तनाव के कारण ही होता है। पहले ही सत्र में 72% दर्द कम हो जाता है। उसके बाद हम उन्हें विशिष्ट अभ्यास करने को कहते हैं। वे यूट्यूब पर निःशुल्क उपलब्ध हैं।'

2007 से, वे डॉक्टरों, वैकल्पिक चिकित्सकों, फिजियोथेरेपिस्ट और ऑस्टियोपैथ को अपने लिबशर और ब्रैच दर्द चिकित्सा पद्धति में प्रशिक्षण दे रहे हैं, जो अपनी प्रभावशीलता के कारण लोकप्रिय हो रही है। अब तक यूरोप में 13,000 से अधिक प्रतिभागियों ने यह प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा कर लिया है। पेट्रा और रोलैंड ने पीड़ा और स्वस्थ पोषण के लिए स्व-सहायता विषय पर 7 भाषाओं में 22 पुस्तकें प्रकाशित की हैं, जिनमें से अधिकांश बेस्टसेलर हैं। सोशल मीडिया पर उनके लगभग 3.5 मिलियन अनुयायी हैं (उनका यूट्यूब चैनल 2 मिलियन से अधिक अनुयायियों  के साथ यूरोप का सबसे बड़ा स्वास्थ्य चैनल है)।
अजय खिमजी ने बताया, 'मेरे साथ हुई दुर्घटना के बाद, जिसके लिए मुझे कई सर्जरी करानी पड़ीं, मुझे बहुत पीड़ा झेलनी पड़ी। मैं बिस्तर से उठने या चलने में सक्षम नहीं था। लेकिन सिर्फ एक सत्र के बाद, मैं फिर से चलने में सक्षम हूं।' निदेशक, खिमजी रामदास एलएलसी, ओमान।
 
रोलैंड लिबशर-ब्रैच दुनिया भर में दर्द चिकित्सा के क्षेत्र में सबसे प्रमुख हस्तियों में से एक हैं और उन्हें 2023 में यूरोप में यूट्यूब के सबसे सफल स्वास्थ्य चैनल के लिए यूट्यूब पुरस्कार मिला है। दर्द चिकित्सा का लाभ अब सोमवार से शनिवार के बीच आर्ट ऑफ लिविंग अंतर्राष्ट्रीय केंद्र के श्रीश्री तत्व पंचकर्म केंद्र में लिया जा सकता है। आरक्षण के लिए आप कॉल कर सकते हैं:- 080 68944565.
ये भी पढ़ें
वैलेंटाइन्स डे पर अपने पार्टनर को अनोखे अंदाज़ में करें प्रपोज