बद्रीनाथ धाम पहुंचे रावत और आर्य, तीर्थ पुरोहितों को दिया देवस्थानम बोर्ड भंग करने का आश्वासन

एन. पांडेय| Last Updated: शनिवार, 13 नवंबर 2021 (12:33 IST)
हमें फॉलो करें
देहरादून। उत्तराखंड में कांग्रेस चुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष और पूर्व कैबिनेट मंत्री आज शनिवार को पहुंचे, जहां दोनों नेताओं ने पूजा की और भगवान बद्री विशाल से आशीर्वाद लिया। इस अवसर पर मंदिर प्रांगण मैं हरीश रावत यशपाल आर्य समेत तमाम कांग्रेसी जमकर भगवान बद्री विशाल के जयकारे भी लगाते हुए दिखाई दिए।

हरीश रावत ने तीर्थ पुरोहितों से उनका हालचाल जाना। ये को भंग करने को लेकर लंबे समय से उद्वेलित हैं। इनकी नाराजगी को देख हरीश रावत साफ कर चुके हैं कि वे सरकार में आते ही इसको भंग कर देंगे। पिछले कुछ दिनों से हल्द्वानी में हरीश रावत यशपाल आर्य विजय शंखनाद रैली की तैयारी कर रहे थे जिसमें बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। इससे राजनीतिक लाभ मिलने की उम्मीद दोनों को नजर आई है। ऐसे में आज सुबह 9 बजे दोनों नेता भगवान बद्री विशाल के दर्शन करने पहुंचे, जहां कम से कम 15 मिनट दोनों ने भगवान बद्री विशाल की पूजा भी की। इस अवसर पर हरीश रावत और यशपाल आर्य के साथ कुमाऊं और गढ़वाल के कई नेता भी मौजूद रहे।
इससे पहले हरीश रावत केदारनाथ धाम में भी दर्शन करने गए थे। यशपाल आर्य के साथ बद्रीनाथ धाम के दर्शन करने हरीश रावत का पहुंचना यह दर्शा रहा है कि दोनों नेता आगामी चुनाव को लेकर लोगों के बीच जाने का पूरा प्लान तैयार कर चुके हैं। 20 नवंबर को बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद हो जाएंगे जिसके चलते तमाम श्रद्धालु बड़ी संख्या में बद्रीनाथ धाम पहुंच रहे हैं। चुनाव से पूर्व अब चारधाम के दर्शनों के लिए उनके शीतकालीन प्रवास पर जाकर ही दर्शन किए जा सकते हैं।



और भी पढ़ें :