1. खबर-संसार
  2. »
  3. समाचार
  4. »
  5. प्रादेशिक
Written By WD

उप्र के दलित सर्वाधिक पीड़ित-उदित राज

महापुरुषों का अपमान सहन नहीं किया जाएगा। मायावती में अगर हिम्मत है तो कानून बनाकर पेरियार रामास्वामी नायकर की मूर्ति पर प्रतिबंध लगाएँ। यह कहना है इंडियन जस्टिस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. उदित राज का।

मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि मायावती ने आगरा की जनसभा में कहा था कि पेरियार की मूर्ति, होर्डिंग व पोस्टर उप्र में अब नहीं लगने दिए जाएँगे और यही बात उन्होंने अधिकारियों की समीक्षा बैठक में भी कही थी।

उन्होंने कहा कि मायावती को किसी से खतरा है तो इंडियन जस्टिस पार्टी से, क्योंकि इसके प्रति दलितों का आकर्षण बढ़ता जा रहा है।

उन्होंने कहा कि उप्र में दलित उत्पीड़न की घटनाएँ अन्य राज्यों की अपेक्षा ज्यादा हुईं। मायावती द्वारा नायकर, आम्बेडकर एवं अन्य महापुरुषों के विचार छोड़ देने से दलितों की एकता में कमी आई। वे मनोवैज्ञानिक रूप से कमजोर हुए। दलितों पर सर्वाधिक उत्पीड़न उप्र में हुआ।

गृह मंत्रालय के आँकड़ों के मुताबिक उप्र में दलित उत्पीड़न के 4960 मामले दर्ज हुए। इसके बाद मप्र है, जहाँ 4214 मामले दर्ज हुए। डॉ. राज ने कहा 14 अप्रैल को मुख्यमंत्री की शह पर उन्हें तथा अन्य वरिष्ठ नेताओं को दिनभर पुलिस लाइन में रखकर रात में पीटा गया।

मायावती दलितों की बात करने वालों के खिलाफ अनर्गल दोषारोपण कर या डराकर हतोत्साहित करती रही हैं। अभी तक वे औरों के साथ जिस फार्मूले के जरिए सफल होती रहीं, ऐसा इंडियन जस्टिस पार्टी के साथ नहीं कर पाएँगी।

उन्होंने आरपीआई की 27 अप्रैल को होने वाली सभा की भी इजाजत नहीं दी गई और सैकड़ों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। रामदास आठवले को गृहबंदी बनाया गया। बुंदेलखंड के आयुक्त की केवल इतनी ही गलती थी कि वे राहुल गाँधी से मिले, उस पर उनका तबादला हो गया। राहुल गाँधी जब दलितों के घर जाते हैं तो मायावती अनर्गल हद तक जा सकती हैं।

उन्होंने कहा कि उनकी हत्या भी मायावती कराना चाहती हैं। वे केंद्रीय गृहमंत्री और प्रधानमंत्री से अपनी जान-माल की सुरक्षा की अपील कर चुके हैं।14 अप्रैल की बर्बरता की जाँच एवं दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की माँग भी उन्होंने की है।

उल्लेखनीय है कि बुधवार से इलाहाबाद सहित प्रदेश के तमाम जिलों पर इंडियन जस्टिस पार्टी के धरना-प्रदर्शन शुरू हो गए हैं और जगह-जगह पेरियार रामास्वामी नायकर एवं डॉ. आम्बेडकर के होर्डिंग लगाए जा रहे हैं।