प्रजनन दर के मामले में बिहार अव्वल

भुवनेश्वर (वार्ता)| वार्ता| पुनः संशोधित गुरुवार, 23 अक्टूबर 2008 (22:53 IST)
प्रति महिला चार बच्चों की दर के साथ बिहार देश में में अव्वल है, जबकि और 3.8 की दर से संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर हैं। नगालैंड (3.7) का तीसरा स्थान है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक गर्भनिरोधक दवाओं की जानकारी नहीं होने और महिलाओं की शिक्षा और स्वास्थ्य से भी उनके प्रजनन दर पर असर पड़ता है।

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-3 की रिपोर्ट के अनुसार आंध्रप्रदेश, गोवा और तमिलनाडु में प्रजनन दर सबसे कम है। यहाँ प्रति महिला पर 1.8 बच्चे हैं। केरल और हिमाचलप्रदेश में यह दर 1.9 है। पंजाब और सिक्किम प्रति महिला दो बच्चों की दर के साथ सबसे कम प्रजनन दर वाले राज्यों की सूची में तीसरे स्थान पर हैं।
सर्वेक्षण में 3910 गृहिणियों को शामिल करते हुए 15 से 49 वर्ष आयु वर्ग की 4540 महिलाओं और 15 से 54 वर्ष आयु वर्ग के 1592 पुरुषों को शामिल किया गया।

रिपोर्ट के मुताबिक 15 से 49 वर्ष आयु वर्ग की 70 प्रतिशत महिलाओं ने दो बच्चों के बाद गर्भनिरोधक उपाय अपनाना उचित समझा, वहीं एक संतान की इच्छा रखने वाले करीब 44 प्रतिशत महिला और 40 प्रतिशत पुरुषों ने दूसरा बच्चा पैदा करने के लिए दो वर्ष तक इंतजार करना मुनासिब समझा।



और भी पढ़ें :