किस तरह मनाते हैं रक्षा बंधन का त्योहार?

रक्षा बंधन का त्योहार हर प्रांत में अलग-अलग तरीके से बनाया जाता है परंतु फिर भी सभी में कुछ कॉमन रीति रिवाज भी होते हैं। आओ जानते हैं कि रक्षा बंधन का त्योहार आमतौर पर कैसे मनाया जाता है।


1. ऐसी मान्यता है कि रक्षा बंधन के दिन भाई अपनी बहन (यदि विवाह हो गया है तो) को अपने घर बुलाता है और भाई दूज के दिन बहन अपने भाई को अपने घर बुलाती है।

2. बहन भाई के लिए मिठाई, राखी या सूत का धागा, नारियल आदि अपने घर से लाती है।

3. इसके अलावा तिलक करने के लिए कुंकु व अक्षत, सिर पर रखने के लिए छोटा रुमाल अथवा टोपी रहती है।

4. बहन पहले भाई को पूर्व दिशा में मुख करके पाट पर बैठाती हैं। फिर सिर पर टोपी या रुपाल रखती है।
5. पूजा की थाली में कुंकु, चावल, मिठाई, नारियल, राखी आदि रखकर दीप जलाती है।

6. फिर भाई के हाथों में नारियल और सवा रुपया रखकर इसके बाद कुंकु, हल्दी और अक्षत से तिलक लगाती हैं।

7. तिलक लगाने के बाद दाहिने हाथ की कलाई पर राखी बांधती है।

8. राखी बांधते वक्त यह मंत्र बोला जाता है:-
येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल:।
तेन त्वां अभिबन्धामि रक्षे मा चल मा चल।।
9. इसके बाद बहन भाई की आरती उतारती है और लोटे में भरा जल आसपास छोड़ती है। साथ ही भाई की उन्नती, सेहत और सुख के लिए मनोकामना करती है।

10. अंत में भाई आरती थी थाली में याथाशक्ति नगदी रखकर बहन को गिफ्‍ट या उपहार देकर उसके पैर पड़ता है।



और भी पढ़ें :