गुरुवार, 25 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राज्यसभा चुनाव
  4. rajyasabha election 2024 : akhilesh yadav attacks bjp
Last Updated : मंगलवार, 27 फ़रवरी 2024 (12:48 IST)

भाजपा पर बरसे अखिलेश यादव, राज्यसभा चुनावों में सता रहा है क्रॉस वोटिंग का डर

सपा प्रमुख ने कहा, जो लोग लाभ चाहते हैं वे चले जायेंगे

भाजपा पर बरसे अखिलेश यादव, राज्यसभा चुनावों में सता रहा है क्रॉस वोटिंग का डर - rajyasabha election 2024 : akhilesh yadav attacks bjp
Rajyasabha election 2024 : समाजवादी पार्टी (SP) के विधायकों द्वारा क्रॉस वोटिंग जाने आशंका के बीच पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने मंगलवार को कहा कि जो लोग लाभ चाहते हैं वे चले जायेंगे। उन्होंने भाजपा पर चुनाव जीतने के लिए सभी हथकंडे अपनाने का आरोप लगाया।
 
मतदान के लिए विधानसभा पहुंचे यादव से जब उनके द्वारा बुलाई गई बैठक में पार्टी विधायकों की अनुपस्थिति के बारे में पत्रकारों ने पूछा तो उन्होंने कहा कि सत्ता का लाभ पाने वाले चले जाएंगे। जिनसे वादा किया गया होगा वे जाएंगे।
 
उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग किसी की राह में कीलें बिछाते हैं या दूसरों के लिए गड्ढा खोदते हैं, वे खुद गिर जाते हैं।
 
उन्होंने कहा कि आप देख चुके हैं कि चंडीगढ़ में सीसीटीवी कैमरों के सामने क्या हुआ। मैं सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद देता हूं जिसने संविधान को बचाया। भाजपा चुनाव जीतने के लिए सभी हथकंडे अपना सकती है। उसने किसी लाभ के लिए आश्वासन दिया होगा।
 
इस बीच उत्तर प्रदेश विधानसभा में पार्टी के मुख्य सचेतक मनोज पांडेय ने पद से इस्तीफा दे दिया। बाद में विधानसभा सचिवालय में पांडेय समेत 5 विधायकों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की। 
 
राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान से एक दिन पहले सोमवार को पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव द्वारा बुलाई गई बैठक में सपा के 8 विधायक शामिल नहीं हुए थे। इनमें मनोज पांडेय, मुकेश वर्मा, महराजी प्रजापति, पूजा पाल, राकेश पांडेय, विनोद चतुर्वेदी, राकेश प्रताप सिंह और अभय सिंह शामिल हैं।
 
क्या है यूपी की राज्यसभा सीटों का गणित : राज्यसभा चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा ने 8 और समाजवादी पार्टी ने 3 उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं। भाजपा के 7 और सपा के 2 उम्मीदवारों की जीत तय है। भाजपा ने अपने 8वें उम्मीदवार के रूप में संजय सेठ को मैदान में उतारा है। समझा जाता है कि इस कारण एक सीट पर कड़ी प्रतिस्पर्धा होने की संभावना है।
 
403 सदस्यीय राज्य विधानसभा में भाजपा और सपा सबसे बड़े दल हैं। भाजपा के 252 और सपा के 108 विधायक हैं। सपा की गठबंधन सहयोगी कांग्रेस के पास दो सीटें हैं।
 
भाजपा की सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) के पास 13, निषाद पार्टी के पास छह, राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के पास 9, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के पास 6, जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के पास 2 और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के पास 1 सीट है। फिलहाल विधानसभा में 4 सीटें खाली हैं।
 
एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश से राज्यसभा के लिए निर्वाचित होने के खातिर एक उम्मीदवार को लगभग 37 प्रथम-वरीयता मतों की आवश्यकता होगी।
Edited by : Nrapendra Gupta 
ये भी पढ़ें
Sandeshkhali में ममता बनर्जी सरकार की उड़ी नींद, 61 से ज्‍यादा गरीबों को लौटाई कब्‍जाई गई जमीन, शेख अब भी फरार