शीतला षष्ठी 2021 : शीतला षष्ठी व्रत क्यों रखते हैं, जानिए

sheetla mata story
माघ माह में शुक्ल पक्ष की षष्ठी (छठी) तिथि को शीतला षष्ठी का व्रत किया जाता है। इस बार शीतला षष्ठी व्रत 17 फरवरी 2021 को पड़ रहा है। माता शीतला का पर्व किसी न किसी रूप में देश के हर कोने में होता है। कोई माघ शुक्ल की षष्ठी को, कोई वैशाख कृष्ण पक्ष की अष्टमी, कोई चैत्र के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को तो कोई श्रावण मास की सप्तमी को शीतला माता का पूजना और व्रत रखता है।

क्यों रखते हैं व्रत : शीतला षष्ठी के दिन किया जाने वाला शीतला माता का व्रत संतान सुख की प्राप्ति के लिए होता है। शीताला माता की पूजा आराधना से घर में शांति बनी रहती है। इससे दैहिक और मानसिक संताप मिट जाते हैं।


शीतला षष्ठी के दिन यदि कोई महिला संतान सुख की कामना कर पूरे विधि-विधान से शीतला माता का व्रत करती है, तो शीतला माता के आशीर्वाद से वह संतान प्राप्त करती है। ऐसी भी मान्यता है कि जब छोटे बच्चों को दाने निकल आते हैं, तो घर के बड़े-बुजुर्ग शीतला माता का प्रकोप मानते हैं। शीतला माता को शांत और प्रसन्न करने के लिए भी इस व्रत को किया जाता है।


क्या करते हैं व्रत में : इस व्रत में महिला प्रातः काल उठकर ठंडे पानी से स्नान करके शीतला माता की पूजा करती है। रात का रखा बासी भोजन ही करती है। इस दिन घर में चूल्हा नहीं जलता है बल्कि चूल्हे की पूजा की जाती है। माता शीतला को शीतल चीजें पसंद हैं इसलिए उन्हें भी ठंडा भोग ही लगाया जाता है। शीतला माता की विधिवत् पूजा करने के पश्चात शीतला षष्ठी की कथा भी अवश्य पढ़नी चाहिए।



और भी पढ़ें :