शनिवार, 13 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. अन्य त्योहार
  4. Ashadha 2022 Vrat Festival List
Written By

आषाढ़ मास के बड़े तीज-त्योहार, दिवस और पर्व

आषाढ़ मास के बड़े तीज-त्योहार, दिवस और पर्व - Ashadha 2022 Vrat Festival List
15 जून 2022 से हिन्दी कैलेंडर का चौथा महीना आषाढ़ (Ashadha Month 2022) शुरू हो गया है। यह माह धार्मिक नजरिए से बहुत ही खास माना जाता है। इन दिनों वर्षा आरंभ हो जाती है। इस माह में सूर्य देव के वरुण रूप, श्रीहरि विष्‍णु और भगवान शिव जी की आराधना विशेष रूप से की जाती है। आइए जानते हैं आषाढ़ माह में कौन-कौन से तीज-त्योहार, (Vrat Tyohar) पर्व और खास दिवस मनाएं जाएंगे- 
 
आषाढ़ माह के त्योहार, पर्व, दिवस- Ashadha Month Vrat Tyohar
 
15 जून 2022, बुधवार- सूर्य मिथुन संक्रांति, आषाढ़ कृष्ण एकम या प्रतिपदा
17 जून 2022, शुक्रवार- संकष्टी गणेश चतुर्थी
18 जून 2022, शनिवार- पंचक शुरू, रानी लक्ष्मीबाई बलिदान दिवस
19 जून 2022, रविवार- पितृ दिवस, फादर्स डे
21 जून 2022, मंगलवार- शीतलाष्टमी, विश्व योग दिवस, विश्व संगीत दिवस
23 जून 2022, गुरुवार- पंचक की समाप्ति, संजय गांधी दिवस, श्यामाप्रसाद मुखर्जी दिवस
24 जून 2022, शुक्रवार- योगिनी एकादशी, रानी दुर्गावती बलिदान दिवस
26 जून 2022, रविवार- रवि प्रदोष व्रत, अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस
27 जून 2022, सोमवार- मासिक शिवरात्रि, रोहिणी व्रत, डायबिटीज जागृती दिवस
28 जून 2022, मंगलवार- हलहारिणी अमावस्या, भौमवती अमावस्या
29 जून 2022, बुधवार- आषाढ़ी अमावस्या
30 जून 2022, गुरुवार- गुप्त नवरात्रि शुरू, पुष्य नक्षत्र
01 जुलाई, शुक्रवार- जगन्नाथ रथ यात्रा आरंभ, डॉक्टर्स डे, सी.ए. दिवस
03 जुलाई, रविवार- विनायक चतुर्थी
4 जुलाई, सोमवार- स्वामी विवेकानंद पुण्यतिथि
05 जुलाई, मंगलवार- स्कंद षष्ठी
06 जुलाई, बुधवार- वैस्ववत पूजा, मां ताप्ती जयंती, डॉ. मुखर्जी जयंती
08 जुलाई, शुक्रवार- भड़ली नवमी
09 जुलाई, मंगलवार- ईद-उल-अदहा, आशा दशमी
10 जुलाई, रविवार- देवशयनी या हरिशयनी एकादशी, अवतार मेहेर बाबा मौन पर्व, पंढरपुर मेला, वासुदेव द्वादशी, चातुर्मास शुरू
11 जुलाई, सोमवार- सोम प्रदोष व्रत, वामन द्वादशी, विजया पार्वती व्रत, मंगला तेरस, विश्व जनसंख्या दिवस
13 जुलाई, बुधवार- गुरु पूर्णिमा, व्यास पूजा, आषाढ़ी पूर्णिमा। 
 
धर्म ग्रंथों के अनुसार आषाढ़ मास में व्रत-उपवास करने से निरोग शरीर एवं जाने-अनजाने में हुए पापों से मुक्ति से मिलती है।