Monsoon Tracker : उत्तर भारत में होगी झमाझम बारिश, मानसून के सक्रिय होने की उम्मीद

Last Updated: रविवार, 13 जून 2021 (20:41 IST)
नई दिल्ली। दक्षिण भारत के कई राज्यों में के चलते तेज हो रही है। महाराष्ट्र और गोवा में भी मानसून पूरी तरह से आ चुका है। अगले दो तीन दिनों में दक्षिण पश्चिम मानसून के पूरे उत्तर भारत में सक्रिय होने की उम्मीद है।
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार अब देश की राजधानी दिल्ली में अगले 2 से 3 दिनों में मानसून पहुंचने की सबसे अधिक संभावना है। IMD ने कहा कि रविवार तक मानसून ने पूरे ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, जम्मू और कश्मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद और हरियाणा के कुछ हिस्सों, चंडीगढ़ और उत्तरी पंजाब को कवर कर लिया है, जो देश के लगभग 80 प्रतिशत भौगोलिक क्षेत्र को कवर करता है।

मौसम विभाग ने कहा कि अगले 48 घंटों में मध्य प्रदेश के अधिकांश हिस्सों, पूर्वी उत्तर प्रदेश के शेष भाग, दिल्ली और पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं।

जम्मू में रविवार तड़के बारिश होने से लोगों को चिलचिलाती गर्मी से राहत मिली और न्यूनतम तापमान मौसम के औसत से पांच डिग्री कम 20.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राष्ट्रीय राजधानी में रविवार सुबह न्यूनतम तापमान 23.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो कि इस मौसम के औसत से चार डिग्री कम है।

मप्र में 6 जिलों का अलर्ट : पूर्वी मध्यप्रदेश के जबलपुर, शहडोल सहित 6 जिलों में गरज, बिजली और भारी वर्षा होने का संभावना व्यक्त करते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं, विदिशा, होशंगाबाद सहित आठ जिलों में गरज, बिजली के साथ तेज बारिश होने के अनुमान के साथ यलो अलर्ट जारी किया गया है।

आईएमडी ने कहा कि अगले 24 घंटों में दक्षिण पश्चिम मानसून के राज्य में आगे बढ़ने की उम्मीद है। आईएमडी ने एक अन्य यलो अलर्ट में प्रदेश के इंदौर, ग्वालियर और चंबल सहित पांच संभागों में अलग-अलग स्थानों पर बिजली व गरज के साथ बौछारें पड़ने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। मौसम विभाग ने भोपाल सहित दस जिलों में भी इसी तरह का मौसम रहने का अनुमान व्यक्त किया है।

राजस्थान के बीकानेर, जयपुर, भरतपुर, जोधपुर, उदयपुर और कोटा संभागों में अगले तीन-चार दिनों में आधी के साथ बारिश होने और अधिकांश हिस्सों में तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट का अनुमान है।



और भी पढ़ें :