RBI ने केवाईसी व पासवर्ड को लेकर लोगों को किया आगाह

Last Updated: सोमवार, 13 सितम्बर 2021 (20:29 IST)
मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सोमवार को केवाईसी (अपने ग्राहक को जानें) अद्यतन किए जाने के नाम पर की जा रही धोखाधड़ी को देखते हुए लोगों को किया। केंद्र‍ीय बैंक ने लोगों से अपने खाते का ब्योरा या जैसी महत्वपूर्ण सूचना किसी अपरिचित व्यक्ति अथवा एजेंसियों के साथ साझा नहीं करने की सलाह दी है। ने एक बयान में कहा कि उसे केवाईसी अद्यतन के नाम पर ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी को लेकर शिकायतें/रिपोर्ट प्राप्त हुई हैं।
ALSO READ:

वैश्विक बाजारों में मजबूती के रुख से सोना 82 रुपए बढ़ा, चांदी 413 रुपए लुढ़की

बयान के अनुसार इस तरह की धोखाधड़ी में आम तौर पर केवाईसी अद्यतन को लेकर कॉल, एसएमएस, ई-मेल आदि ग्राहकों को प्राप्त होते हैं और उनसे व्यक्तिगत जानकारी, खाता/ लॉग-इन ब्योरा, कार्ड सूचना, पिन, ओटीपी आदि मांगे जाते हैं। इसमें केवाईसी अद्यतन के लिए भेजे गए लिंक के जरिए अनधिकृत एप्लीकेशन डाउनलोड करने को कहा जाता है। आरबीआई के अनुसार उसे यह भी रिपोर्ट मिली है कि फोन अथवा संदेश देने वाले ग्राहकों को ऐसा नहीं करने पर खाता बंद होने की चेतावनी भी देते हैं।


बयान में कहा गया है कि एक बार ग्राहक कॉल/ संदेश/ अनधिकृत एप्लीकेशन के माध्यम से सूचना साझा करते हैं व धोखाधड़ी करने वालों को संबंधित व्यक्ति के खातों तक पहुंच हो जाती है। आरबीआई ने कहा कि लोगों को आगाह किया जाता है कि वे खाता लॉग-इन विवरण, व्यक्तिगत जानकारी, केवाईसी दस्तावेजों की प्रतियां, कार्ड की जानकारी, पिन, पासवर्ड, ओटीपी आदि को अज्ञात व्यक्तियों या एजेंसियों के साथ साझा न करें। ये सूचनाएं अनधिकृत वेबसाइट या एप्लीकेशन (ऐप) के माध्यम से भी नहीं दी जानी चाहिए। अगर ग्राहकों को ऐसी कोई संदेश मिलता है, वे तुरंत अपने बैंक से संपर्क करें।


आरबीआई ने कहा कि विनियमित इकाइयों को केवाईसी के निश्चित अंतराल पर अद्यतन की जरूरत होती है। इस प्रक्रिया को काफी हद तक सरल बनाया गया है। विनियमित इकाइयों को सलाह दी गई है कि जिन खातों के संदर्भ में निश्चित अंतराल पर केवाईसी अद्यतन की जरूरत है, उन खातों पर 1 दिसंबर, 2021 तक कोई पाबंदी केवल केवाईसी के नाम पर नहीं लगाई जाएगी।(भाषा)



और भी पढ़ें :