RRB-NTPC परीक्षा पर रोक, बिहार से UP तक छात्रों का प्रदर्शन, रेल मंत्री ने कहा- कानून हाथ में नहीं लें, शिकायतों का करेंगे समाधान

पुनः संशोधित बुधवार, 26 जनवरी 2022 (17:34 IST)
नई दिल्ली। रेलवे भर्ती (RRB-NTPC) में अनियमितताएं को लेकर छात्रों का प्रदर्शन जारी है।
बिहार में की एनटीपीसी परीक्षा में धांधली के विरोध में छात्र बहुत ज्यादा उग्र हो गए। बुधवार को गया में कुछ प्रदर्शनकारी छात्रों ने विरोधस्वरूप ट्रेन के डिब्बों में आग लगा दी।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार छात्रों की समस्याओं का हल निकाले। रेल मंत्री ने छाओं को समाधान का आश्वासन दिया है। बिहार, झारखंड और उत्तरप्रदेश में नौकरी के इच्छुक उम्मीदवार हिंसक प्रदर्शन कर रहे हैं।



चयन प्रक्रिया को लेकर बिहार के कई स्थानों पर युवाओं ने विरोध- प्रदर्शन किया और कई ट्रेनों को रोका। इस दौरान पुलिस ने भी बल प्रयोग किया। इससे पहले दिन में देश के विभिन्न हिस्सों से नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों द्वारा तोड़फोड़ की खबर के बाद रेल मंत्रालय ने गैर-तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों (आरआरबी एनटीपीसी) और स्तर 2 परीक्षाओं को स्थगित कर दिया था। इसके लिए कमेटी भी बनाई गई है।
रेलमंत्री ने दिया आश्वासन : रेलवे द्वारा भर्ती परीक्षा में कथित अनियमितताओं को लेकर उम्मीदवारों के उपद्रव के बीच रेल मंत्री ने बुधवार को नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों से सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट नहीं करने का आग्रह किया और आश्वासन दिया कि उनकी शिकायतों का समाधान किया जाएगा।
मंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं उम्मीदवारों से कहना चाहूंगा कि यह उनकी अपनी संपत्ति है। वे अपनी ही संपत्ति को क्यों नष्ट कर रहे हैं? हालांकि, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान होने पर अधिकारी उचित प्रक्रिया का पालन करेंगे।

वैष्णव ने कहा कि रेलवे मुख्यमंत्रियों के संपर्क में है और इस मुद्दे के साथ ‘संवेदनशीलता’ से निपटा जा रहा है। रेल मंत्री ने कहा कि मैं उम्मीदवारों से अपनी शिकायतों को औपचारिक रूप से सामने रखने का आग्रह करता हूं। हमारा इरादा इस मुद्दे को जल्दी से हल करने का है। एक समिति बनाई गई है और यह उम्मीदवारों के आवेदनों पर गौर करेगी।
परेशानी हल करे सरकार : कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने विरोध कर रहे युवाओं का समर्थन करते हुए बुधवार को कहा कि सरकार को इनकी समस्याओं का समाधान करना चाहिए और गिरफ्तार किए गए छात्रों को रिहा किया जाना चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया कि रेलवे, एनटीपीसी व ग्रुप डी परीक्षा से जुड़े युवाओं पर दमन की जितनी निंदा की जाए, कम है। सरकार दोनों परीक्षाओं से जुड़े युवाओं से तुरंत बात करके उनकी समस्याओं का हल निकाले। छात्रों के हॉस्टलों में घुसकर तोड़फोड़ और सर्च की कार्रवाई पर रोक लगाए।

प्रियंका गांधी ने कहा कि गिरफ्तार किए गए छात्रों को रिहा किया जाए। विरोध- प्रदर्शन करने के चलते उनको नौकरी से प्रतिबंधित करने वाला आदेश वापस लिया जाए। प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं से मेरी अपील है कि सत्याग्रह में बहुत ताकत होती है। शांतिपूर्ण ढंग से सत्याग्रह के मार्ग पर चलते रहिए।



और भी पढ़ें :