मोदी बोले, क्रिक्रेट के मैदान से 'आत्मनिर्भर भारत' की भावना का हो रहा फैलाव

Last Updated: शुक्रवार, 22 जनवरी 2021 (15:56 IST)
तेजपुर (असम)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान हर भारतवासी के जीवन का अहम हिस्सा बन गया है और इसकी भावना की व्यापकता आज क्रिक्रेट के मैदान से कोविड-19 के खिलाफ जंग तक में नजर आ रही है। केंद्र सरकार पूर्वोत्तर के सर्वांगीण विकास में जुटी हुई है और विकास कार्यों से इस क्षेत्र में नई संभावनाओं के द्वार खुले हैं।
ALSO READ:
देश में अब तक 9 लाख 99 हजार से ज्यादा को लगी कोरोना वैक्सीन, PM नरेंद्र मोदी वॉरियर्स से करेंगे बातचीत, जानेंगे उनका अनुभव
प्रधानमंत्री ने डिजिटल माध्यम से तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए छात्रों का आह्वान किया कि वे इन संभावनाओं का लाभ उठाए और 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान में योगदान दें। देश ने कोविड से लड़ाई के लिए अत्‍यधिक सक्रियता दिखाई और उचित समय पर उचित फैसले लिए। कोविड-19 के खिलाफ प्रभावी लड़ाई के लिए देश के वैज्ञानिकों और स्वास्थ्यकर्मियों की उन्होंने जमकर सराहना भी की।
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के काल में 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान हर किसी की शब्दावली का अहम हिस्सा हो गया है। हमारे अंदर वो घुल-मिल गया है। हमारा पुरुषार्थ, हमारे संकल्प, हमारी सिद्धि, हमारे प्रयास ये सब हम अपने इर्द-गिर्द महसूस कर रहे हैं। आज हर चुनौती से निपटने का देश के युवाओं का अंदाज और देश का मिजाज कुछ हटकर है। इस कड़ी में उन्होंने ऑस्ट्रलिया में भारतीय क्रिकेट टीम को मिली टेस्ट श्रृंखला में जीत का उदाहरण देते हुए कहा कि तमाम चुनौतियों के बावजूद उन्होंने मैच में जीत हासिल की।
उन्होंने कहा कि हमारे युवा खिलाड़ियों ने चुनौतियों का सामना किया और समाधान तलाशे। कई खिलाड़ी घायल हो गए। कुछ खिलाड़ियों में अनुभव जरूर कम था लेकिन हौसला उतना ही बुलंद था। उनको जैसे ही मौका मिला, उन्होंने इतिहास बना दिया। उन्होंने कहा कि क्रिकेट के मैदान पर भारतीय क्रिकेट टीम के प्रदर्शन से हमें सीख मिलती है कि हमें अपनी क्षमता पर विश्वास होना चाहिए, सकारात्मक माइंडसेट से काम करने पर रिजल्ट भी सकारात्मक ही आता है। अगर आपके पास एक तरफ सेफ निकल जाने का विकल्प हो और दूसरी तरफ मुश्किल जीत का विकल्प हो तो आपको विजय का विकल्प जरूर चुनना चाहिए। अगर जीतने की कोशिश में कभी-कभार असफलता भी हाथ लग गई तो इसमें कोई नुकसान नहीं है। रिस्क लेने व प्रयोग करने से डरना नहीं है। हमें प्रोएक्टिव और निर्भीक होना पड़ेगा।
ALSO READ:Horoscope 2021 : प्रधानमंत्र‍ी नरेन्द्र मोदी के लिए कैसा होगा वर्ष 2021?
कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का भारत समस्या के समाधान के लिए प्रयोग करने से भी नहीं डरता और बड़े स्तर पर काम करने से भी पीछे नहीं हटता। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के हमारे प्रबंधन ने दिखाया कि जहां सकल्प और जज्बा होता है, वहां संसाधन खुद ही जुट जाते हैं। आज कोविड-19 के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान भारत में चल रहा है।
प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि केंद्र सरकार पूर्वोत्तर के सर्वांगीण विकास में जुटी हुई है। हमारी सरकार आज जिस तरह नॉर्थ-ईस्ट के विकास में जुटी है, जिस तरह संपर्क, शिक्षा और स्वास्थ्य और अन्य क्षेत्रों में काम हो रहा है, उससे आपके लिए अनेक नई संभावनाएं बन रही हैं। इन संभावनाओं का पूरा लाभ उठाइए। इस अवसर पर असम के राज्यपाल जगदीश मुखी, मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और केंद्रीय शिक्षामंत्री रमेश पोखरियाल निशंक भी उपस्थित थे।
दीक्षांत समारोह में 2020 में उत्तीर्ण 1,218 छात्रों को डिग्री और डिप्लोमा प्रदान किए गए। डिग्री प्राप्‍त करने वालों में विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में सर्वाधिक अंक पाने वाले 48 छात्रों को स्वर्ण पदक भी प्रदान किया गया। दीक्षांत समारोह कोविड-19 से बचाव के नियमों का पालन करते हुए आयोजित किया गया। केवल पीएचडी और स्वर्ण पदक प्राप्‍त करने वाले छात्र ही व्‍यक्तिगत रूप से डिग्री और पदक के लिए उपस्थित हुए जबकि अन्‍य छात्रों को डिजिटल माध्‍यम से डिग्री और डिप्लोमा प्रदान किए गए। (भाषा)



और भी पढ़ें :