केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, भारी बारिश की चेतावनी

Last Updated: रविवार, 17 अक्टूबर 2021 (15:53 IST)
हमें फॉलो करें
देहरादून। ने 17 अक्टूबर से दो-तीन दिन तक उत्तराखंड के चारधाम सहित अधिकांश पर्वतीय क्षेत्रों में की चेतावनी दी है। आज यानी रविवार को खराब मौसम को देखते हुए प्रशासन ने केदारनाथ यात्रा पर अस्थाई रूप से रोक लगा दी है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा प्रबंधन विभाग, पुलिस प्रशासन और सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं।
खबरों के अनुसार, मौसम विभाग द्वारा 17 अक्तूबर रविवार से दो-तीन दिन तक चारधाम सहित अधिकांश पर्वतीय क्षेत्रों में भारी बारिश की चेतावनी को देखते हुए प्रशासन ने केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम की यात्रा पर अस्थाई रूप से रोक दी है। जिला प्रशासन की ओर से 18 अक्टूबर के लिए सभी स्कूल-कॉलेज में एक दिन का अवकाश घोषित किया गया है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा प्रबंधन विभाग, पुलिस प्रशासन और सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं। उत्तराखंड की यात्रा पर आ रहे यात्रियों और यात्रा कर रहे यात्रियों से भी अनुरोध किया है कि वह मौसम की चेतावनी को देखते हुए अपनी यात्रा की योजना बनाएं और इस अवधि में यात्रा करने से बचें।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि पुलिस, एसडीआरएफ और अन्य संबंधित कार्मिकों को संवेदनशील स्थानों पर हाई अलर्ट रखा जाए। उन्होंने कहा कि जरूरत होने पर प्रभावितों को तत्काल राहत मिले।

इस चेतावनी को देखते हुए कमांडेंट SDRF नवनीत सिंह के आदेशानुसार राज्य के विभिन्न जनपदों में व्यवस्थापित SDRF की सभी टीमें अलर्ट अवस्था में रखी गई हैं। सभी टीमों को निर्देशित किया गया है कि वे किसी भी आपात परिस्थिति के लिए पूर्णतः अलर्ट रहें व रेस्क्यू उपकरणों को भी कार्यशील दशा में रखें।

मौसम विभाग द्वारा जारी किए गए अलर्ट के बाद तत्काल ही कमांडेंट SDRF, नवनीत सिंह के आदेशानुसार राज्यभर में SDRF रेस्क्यू टीमों को किसी भी आपात स्थिति में तत्काल कार्रवाई के लिए अलर्ट कर दिया गया है। SDRF कंट्रोल रूम को भी अलर्ट पर रखा गया है।
सभी को निर्देशित किया गया है कि सूचनाओं का आदान-प्रदान तत्काल किया जाए, जिससे किसी भी घटनास्थल पर समय पर पहुंचकर रेस्क्यू कार्य सुचारू रूप से किया जाए। मौसम विभाग की चेतावनी को देखते हुए SDRF की 29 टीमें राज्य के विभिन्न संवेदनशील स्थानों पर लगाई गई हैं।



और भी पढ़ें :