ज्योतिरादित्य सिंधिया हो सकते है एमपी कांग्रेस के नए अध्यक्ष, औपचारिक एलान जल्द

Author विकास सिंह| Last Updated: सोमवार, 9 सितम्बर 2019 (09:57 IST)
भोपाल। दिग्गज कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्य प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष हो सकते है। पार्टी सूत्रों के हवाले से खबर हैं कि प्रदेश कंग्रेस में अध्यक्ष को लेकर मचे घमासान के बाद अब पार्टी हाईकमान सोनिया गांधी ने प्रदेश अध्यक्ष के लिए युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम पर अपनी अंतिम मोहर लगा दी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया जो इन दिनों विदेश दौरे पर है उनके लौटते ही प्रदेश अध्यक्ष के लिए उनके नाम का औपचारिक एलान भी कर दिया जाएगा।

इस बीच खबर यह भी है कि विदेश से लौटते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया मंगलवार को पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे। सिंधिया की सोनिया गांधी से इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। पार्टी से जुड़े सूत्र बताते हैं कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने जब दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी तभी सिंधिया के नाम पर अंतिम सहमति बन गई थी। पार्टी सूत्र बताते है कि अगर मध्य प्रदेश में सब कुछ ठीक रहा तो सिंधिया के नाम का औपचारिक एलान भी जल्द हो जाएगा।
राहुल-प्रियंका का वीटो: ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्य कांग्रेस का अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले के पीछे राहुल और प्रियंका गांधी की अहम भूमिका मानी जा रही है। पार्टी से जुड़े सूत्र बताते है कि प्रदेश कांग्रेस में पिछले कई दिनों से जारी उठापटक और सिंधिया सर्मथकों के बागी तेवर के बाद राहुल और प्रियंका गांधी ने प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए सिंधिया के पक्ष में पैरवी की। जिसके बाद अब लगभग ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम प्रदेश अध्यक्ष के लिए फाइनल हो चुका है।
सरकार-संगठन में संतुलन की कवायद :
अगर मध्य प्रदेश कांग्रेस में सब कुछ सामान्य रहा तो युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के हाथों में अब पार्टी की कमान होगी। आलाकमान के इस फैसले को सरकार और संगठन में बेहतर संतुलन बनाए रखने के तौर पर देखा जा रहा है। वर्तमान में मुख्यमंत्री कमलनाथ ही प्रदेश अध्यक्ष की भी जिम्मेदारी उठा रहे है। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव में भाजपा को पटखनी देने के लिए जिस तरह कमलनाथ और सिंधिया की जोड़ी ने काम किया था उसको अब आलाकमान एक बार फिर प्रदेश में स्थापति करना चाहता है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद जब आलाकमान ने मुख्यमंत्री के लिए कमलनाथ के नाम पर अपनी मोहर लगाई थी उसी वक्त से इस बात की अटकलें लगाई जा रही थी कि सिंधिया पार्टी यानि संगठन की कमान संभालेंगे।
सिंधिया और सर्मथकों के बगावती तेवर :
मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद सिंधिया समर्थक अपने नेता को प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपने की मांग आलाकमान से करते आए है। पिछले एक पखवाड़े से जिस तरह प्रदेश कांग्रेस में नए को लेकर घमासान मचा हुआ था उसको लेकर सिंधिया सर्मथकों ने बगावती तेवर दिखा दिए थे। कमलनाथ कैबिनेट में शामिल सिंधिया समर्थक मंत्रियों से लेकर जिलों में कांग्रेस कार्यकर्ता तक ने अपने महाराज को अध्यक्ष बनाए जाने की मांग करते हुए इस्तीफे तक की धमकी दे दी थी। इसके साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे आर्यमन सिंधिया के सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो ने भी सियासी खेमे में काफी खलबली मचाई थी जिसके बाद सिंधिया के भी बगावती तेवर को लेकर भी चर्चा शुरु हो गई थी।




और भी पढ़ें :