International Tiger Day : भारत में जिंदा हैं 3000 टाइगर्स, पीएम मोदी ने बताई संख्या

Last Updated: सोमवार, 29 जुलाई 2019 (10:22 IST)
नई दिल्ली। वर्ल्ड टाइगर डे के अवसर पर बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बाघों की घटती संख्या पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि भारत बाघों के लिए सुरक्षित जगह है। पीएम मोदी ने कहा कि कई देशों में बाघ आस्था के प्रतीक हैं। मोदी ने कहा कि बाघ बढ़ेंगे तो पर्यावरण भी बढ़ेगा।
प्रधानमंत्री ने कहा कि
आज हम गर्व के साथ कह सकते हैं कि भारत करीब 3 हज़ार टाइगर्स के साथ दुनिया के सबसे बड़े और सबसे सुरक्षित Habitats में से एक है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2014 में भारत में प्रोटेक्ट की संख्या 692 थी जो 2019 में बढ़कर अब 860 से ज्यादा हो गई है। साथ ही कम्युनिटी रिजर्व की संख्या भी साल 2014 के 43 से बढ़कर अब 100 से ज्यादा हो गई है।

बीते 5 वर्षों में जहां देश में नेक्स्ट जनरेशन इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए तेजी से कार्य हुआ है, वहीं भारत में फॉरेस्ट कवर भी बढ़ रहा है। देश में प्रोटेक्टेड एरिया की संख्या में भी वृद्धि हुई है। लेकिन हमें सहअस्तित्व को भी स्वीकारना होगा और सहयात्रा के महत्व को भी समझना होगा।
हर तीन साल में होती है गणना : वर्ष 2006 से हर तीन साल में बाघों की गणना का सिलसिला शुरू हुआ था। तब गणना के बाद राज्य में न्यूनतम 236 और अधिकतम 364 बाघ होने का आंकड़ा सामने आया था, 2014 की गणना में न्यूनतम 264 और अधिकतम 362 बाघ होने का आंकड़ा सामने आया।

इस हिसाब से औसत 308 बताया गया। 2017 में सर्वे नहीं हुआ। 2018 में बाघ और अन्य जंगली जानवरों की गणना हुई, लेकिन इसके आंकड़े राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण, वन व जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने अब तक जारी नहीं किए हैं।



और भी पढ़ें :