चीन के साथ जंग के कोई आसार नहीं

Author सुरेश एस डुग्गर| पुनः संशोधित बुधवार, 19 जुलाई 2017 (23:53 IST)
में से जारी तनातनी के बीच सुरक्षाबलों ने साफ किया है कि इसको लेकर चीन ने न तो सरहद पर कोई अपना जमावड़ा किया है और न ही कोई मूवमेंट। लिहाजा फिलहाल चीन के साथ जंग के कोई आसार नहीं है।

चीन के साथ की 3488 किलोमीटर की सीमा है। इन सरहद पर पिछले दो महीने से चीनी सेना की कोई असमान्य हरकत नही देखी गई है। भारत से लगी सीमा पर चीन के 15 से 16 डिविजन सेना तैनात है। एक डिविजन में 12 से 15 हजार जवान होते है। ये पहले से ही तैनात है।

मीडिया में जो चीन का सैन्य अभ्यास करते हुए वीडियो दिखाया जा रहा है, वो जून महीने का है। यही नहीं, ये अभ्यास भारतीय सीमा से करीब 700 किलोमीटर दूरी पर हुआ था और ऐसा अभ्यास चीन हर साल 2009 से करता आ रहा है। मीडिया में फिलहाल इसको जारी करने के पीछे भारत पर मनोवैज्ञानिक दवाब बनाना है।

डोकलाम में भारतीय सेना काफी मजबूत स्थिति में है क्योंकि वो ऊंचाई में है। ऐसे इलाके में अगर लड़ाई होती है तो भारत के एक जवान के मुकाबले चीन को नौ जवान तैनात करने होंगे तभी वो जीत सकता है।

भारत से लगती सीमा पर चीन के पांच ऑपरेशनल एयरफील्ड है जबकि 4 से 5 ऐसे लैडिंग स्ट्रीप है जो ऑपरेशनल क्षमता से लैस नही है।

चीन से लगी सीमा पर भारत के अधिक जवान तैनात है लेकिन चीन की सेना अगर त्सेंगपो नदी जो भारत में आकर ब्रम्हपुत्र नदी हो जाती है, उस पर बने पुल पार करती है तो ये भारत के लिए खतरा हो सकता है। ये भी भारतीय सीमा से 250 किलोमीटर की दूरी है। यहां भी चीनी सेना की कोई मूवमेंट नही है।



और भी पढ़ें :