कोरोना से सावधानी के बीच देशभर में परंपरा और हर्षोल्लास से मनी होली

Last Updated: सोमवार, 29 मार्च 2021 (20:37 IST)
नई दिल्ली। होली सोमवार को धार्मिक रीति-रिवाजों और पूरे हर्षोल्लास के साथ शांतिपूर्ण तरीके से मनाया गया।
बच्चे,महिलाएं और बुजुर्ग भी इस त्योहार के मौके पर खुशियां मनाते और एक-दूसरे को अबीर-गुलाल लगाकर बधाई देते हुए नजर आए। तमाम तरह के रंगों से सराबोर बच्चे तो खासतौर पर बड़े उत्साहित रहे और वे हर दिखाई पड़ जाने वाले शख्स पर रंग और अबीर-गुलाल की बरसात करते नजर आए। लोगों ने इस मौके पर अपनो-अपनों का गुझिया और अन्य मिष्ठानों से मुंह मीठा करवाया।

होली के अवसर पर गाए जाने वाले गीतों की भी इस मौके पर खूब धूम रही। रंग-बिरंगे लोग नाचते-गाते और गली-मुहल्ले में घूम-घूमकर लोगों को अबीर-गुलाल लगाकर एक-दूसरे को बधाई गले लगकर होली की बधाई देते नजर आए। कल रात को होलिका दहन के समय लोग खासकर महिलाएं धार्मिक रीति-रिवाज के साथ होलिका की पूजा और अन्य अनुष्ठान करती देखी गईं।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने होली के मौके पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं और सबके सुख एवं समृद्धि की कामना की है। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने होली के मौके पर सोमवार को देशवासियों को बधाई दी।

कोविंद ने कहा कि होली के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को शुभकामनाएं। रंगों का त्‍योहार होली, सामाजिक सौहार्द का पर्व है और लोगों के जीवन में खुशी, उत्‍साह एवं आशा का संचार करता है। मेरी कामना है कि उमंग और उल्‍लास का यह पर्व हमारी सांस्‍कृतिक विविधता में निहित राष्‍ट्रीय चेतना को और शक्ति प्रदान करे।

उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने देशवासियों को रंगों के त्योहार होली के अवसर पर शुभकामनाएं दी हैं। नायडू ने एक संदेश में कहा कि सभी देशवासियों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं। रंगों का यह उल्लास पर्व आपके और आपके प्रियजनों के जीवन में सौहार्द, सुहृदयता, शांति, स्वास्थ्य, शिक्षा और समृद्धि लाए। एक अन्य ट्वीट में श्री नायडू ने आग्रह किया कि बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार द्वारा बतायी गई हर आवश्यक सावधानी रखें और सुरक्षित रहें।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक होली के मौके पर सोमवार को देशवासियों को शुभकामनाएं दी।
मोदी ने कहा कि आप सभी को होली की ढेर सारी शुभकामनाएं। आनंद, उमंग, हर्ष और उल्लास का यह त्योहार हर किसी के जीवन में नए जोश और नई ऊर्जा का संचार करे।

उत्तरप्रदेश में होली का त्योहार पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मथुरा, वाराणसी, गोरखपुर, अयोध्या, लखनऊ और कानपुर समेत पूरे प्रदेश में लोग सुबह से ही होली के रंग में रंगे नजर आए। इस दौरान जम कर रंग खेला गया और अबीर-गुलाल की बरसात हुयी। बाद में गुझिया से लोगों ने अपने प्रियजनों का मुंह मीठा कराते हुए होली की शुभकामनाएं दीं।
मथुरा-वृंदावन की गलियों और मंदिरों में जमकर अबीर-गुलाल उड़ा। बांकेबिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी और जमकर टेसू के फूल और गुलाल उड़ाए गए। इस दौरान अलग-अलग मंदिरों में कृष्ण भक्ति का सैलाब उमड़ता रहा। वाराणसी की गलियों और चौराहों पर रंगों की बरसात हुयी जिससे कुछ समय के लिए सड़कों का रंग बदल गया। भगवान भोले की नगरी काशी में भी हुड़दंग के साथ गलियों में रंगों की फुहार और गुलाल का रंग और चटख हो गया है। इस दौरान ठंडाई का दौर जम कर चला।
गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हालांकि भगवान नृसिंह की शोभायात्रा में भाग नहीं लिया। गोरखनाथ मंदिर में परंपरा के अनुरूप होलिका दहन की राख उड़ाकर तथा तिलक लगाकर होली मनाई गई। गुरु गोरक्षनाथ को भस्म अर्पित करने के बाद प्रधान पुजारी कमलनाथ ने गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ का तिलक किया। इससे पहले श्री योगी ने गुरु गोरक्षनाथ तथा अपने गुरु महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा का दर्शन-पूजन किया।
उन्होंने कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए होली मनाने की अपील की और कहा कि होली का पर्व हमें अधर्म, असत्य और अन्याय जैसी नकारात्मक प्रवृत्तियों से लड़ने की प्रेरणा देता है। प्रदेश के सभी जिलों से शांतिपूर्ण तरीके से होली मनाए जाने की खबरें मिली हैं।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए ईश्वर से सभी के सुख, समृद्धि और खुशहाली की कामना की। चौहान ने कहा कि रंगों का यह पर्व आपके जीवन को उल्लास, उत्साह, आनंद के नए रंगों से भर दे। सुख, समृद्धि, खुशहाली का नवसृजन हो, आप हर क्षण प्रसन्न रहें, यही कामना है। साथ ही यह आग्रह भी कि होली का यह पर्व आप अपने घर पर परिवार के साथ मनाएं और कोविड-19 के संक्रमण को रोकने में योगदान दें।
गुजरात में रंगों का त्योहार होली-धुलेटी सोमवार को पारंपरिक हर्षोल्लास के साथ धूमधाम से मनाया गया। मध्य गुजरात के डाकोर स्थित रणछोड़ मंदिर के व्यवस्थापक रवीन्द्रभाई ने बताया कि फागुनी पूर्णिमा पर कोरोना संक्रमण न बढ़े, इसलिए भक्तों के लिए मंदिर 27 से 29 मार्च तीन दिनों तक बंद रखा गया है। बंद मंदिर में होली की पूर्णिमा और धुलेटी एक ही दिन रविवार को मनायी गयी। आशोपालव के तोरण पर भगवान को विराजमान करके धुलेटी उत्सव सादगी से मनाया गया।
उन्होंने बताया कि हर साल पांच दिवसीय फागुनी मेले के अंतिम दिन धुलेटी पर लाखों की संख्या में पदयात्रा कर भक्त दर्शनों के लिए मंदिर में उमड़ पड़ते थे। श्रद्धालुओं द्वारा पदयात्रियों के लिये रास्ते में भोजन, अल्पाहार और शीतल पेयजल की व्यवस्था की जाती थी। दर्शनों का सिलसिला देर रात तक जारी रहता था, लेकिन कोरोना महामारी के कारण मंदिर इस मौके पर तीन दिन श्रद्धालुओं के लिए बंद रखा गया है।
प्रदेश के कच्छ, भुज, गांधीधाम, राजकोट, जामनगर, अहमदाबाद, महेसाणा, नाडियाद, आणंद, वडोदरा, सूरत समेत सभी शहरों में रंगों से सराबोर लोगों ने एक दूसरे को अबीर गुलाल लगाकर, मोबाइल फोन, ट्विटर, व्हाट्सएप और फेसबुक पर होली के पावन-पर्व की शुभकामनाएं दीं। दिनभर युवाओं की टोलियों को गुलाल और रंगों से होली खेलते देखा गया। इस दौरान हर साल राज्य के डाकोर, द्वारका सहित विभिन्न मंदिरों में भी दर्शनार्थियों की भीड़ उमड़ पड़ती थी, पर इस साल कोरोना महामारी के कारण श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को नहीं मिली।
द्वारका जगत मंदिर के एक भक्त ने बताया कि हर साल एकादशी से फागुनी पूर्णिमा पांच दिनों के दौरान अलग-अलग जगहों से लाखों की संख्या में पदयात्री द्वारकाधीश के दर्शन करने आते थे और मंदिर में फूलडोल उत्सव मनाया जाता था, लेकिन कोरोना महामारी के कारण इस साल मंदिर बंद रखा गया जिससे मंदिर में भक्तों की भीड़ देखने को नहीं मिली।

उत्तराखंड से भी होली धूमधाम से मनाए जाने की रिपोर्ट मिली है। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने सोमवार को अपने विधानसभा क्षेत्र ऋषिकेश में मोटरसाइकल से घूमते हुए खूब अबीर, गुलाल उड़ाया और लोगों से गले मिलकर होली की बधाइयां देने के साथ मिठाइयां भी बांटीं।
इस अवसर अग्रवाल ने कहा कि रंगों का त्योहार होली आपसी मेल-जोल और खुशियों का प्रतीक है। यह समाज के सभी वर्गों, धर्मों और विभिन्न परम्पराओं को मानने वाले लोगों को जोड़ता है। उन्होंने कहा कि खुशियों और रंगों का यह त्यौहार नई उमंग के साथ जीवन जीने का संदेश देता है। साथ ही एकता, समरसता और भाईचारे का प्रतीक है।

उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियों को राज्य की उन्नति तथा खुशहाली के लिए सामाजिक सद्भाव और भाईचारे के साथ आगे बढ़ने का संकल्प लें। उन्होंने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी से सतर्कता से होली मनाने की अपील की। पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर तथा अन्य राज्य और केन्द्रशासित प्रदेशों से भी होली का त्योहार धूमधाम से मनाये जाने की रिपोर्ट मिली है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :