नारद मामला: कलकत्ता उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ CBI ने किया शीर्ष अदालत का रुख

Last Updated: सोमवार, 24 मई 2021 (12:21 IST)
हमें फॉलो करें
कोलकाता। नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में गिरफ्तार 4 नेताओं को घर में ही नजरबंद करने के कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ ने का रुख किया है। उच्च न्यायालय ने 21 मई को पश्चिम बंगल के 2 मंत्रियों, 1 विधायक और कोलकाता के पूर्व महापौर को घर में नजरबंद करने का आदेश दिया था।
ALSO READ:

नारद मामला : उच्च न्यायालय ने गुरुवार तक सुनवाई स्थगित की, जेल में ही रहेंगे नेता

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेश बिंदल की अध्यक्षता वाली पीठ में सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा मंत्री सुब्रत मुखर्जी और फरहाद हकीम, तृणमूल कांग्रेस विधायक मदन मित्रा और कोलकाता के पूर्व महापौर शोभन चटर्जी को दी गई जमानत पर रोक लगाने को लेकर मतभेद था। मतभेद के मद्देनजर मामले को दूसरी पीठ में भेजने का भी फैसला किया जिस पर सुबह 11 बजे सुनवाई शुरू होनी थी।
इस पीठ में न्यायमूर्ति अरिजित बनर्जी भी शामिल थे। अंतत: पीठ ने निर्देश दिया कि अब तक न्यायिक हिरासत में रह रहे ये नेता अब घर में ही नजरबंद रहेंगे। कानून अधिकारी ने बताया कि सीबीआई ने वृहद पीठ के समक्ष नजरबंद के आदेश को चुनौती दी है। उल्लेखनीय है नारद स्टिंग ऑपरेशन टेप मामले में सीबीआई ने इन चारों नेताओं को सोमवार सुबह गिरफ्तार किया था। सीबीआई 2017 को उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार इस मामले की जांच कर रही है। (भाषा)



और भी पढ़ें :