बाबा रामदेव बने भारतीय योग संघ के अध्यक्ष

Last Updated: बुधवार, 8 फ़रवरी 2017 (23:28 IST)
हरिद्वार। दुनियाभर में योग एवं को पहचान दिलाने वाले भारत के शीर्ष योगगुरु एक मंच पर आ गए हैं। इस संबंध में की अगुवाई में भारतीय योग संघ का गठन किया गया है।
    
मंगलवार देर रात शांतिकुंज में चली एक मैराथन बैठक के बाद योगगुरु बाबा रामदेव को इसका अध्यक्ष बनाने पर सहमति बनीं जबकि आर्ट ऑफ लीविंग के श्रीश्री रविशंकर और शांतिकुंज के प्रमुख डॉ. प्रणव पण्डया इसके सदस्य बनाए गए हैं। 
     
इस संबंध में जानकारी देते हुए डॉ. प्रणव पण्डया ने बताया कि योग संघ का गठन 2008 में किया गया था लेकिन इसका संचालन सुचारू रूप से नहीं चल पाया। अब इसे सभी योग चलाने वाली संस्थाओं ने सर्वसम्‍मति से इसका पुनर्गठन कर इसे सक्रिय रूप से चलाने का फैसला लिया है।  उन्होंने बताया की भारत में योग की कई विधाएं प्रचलन में है, परंतु इसे एक निश्चित दायरे में लाकर एकरूपता प्रदान कर इसका प्रचार प्रसार देश-विदेश में किया जाएगा। 
          
स्वामी रामदेव ने बताया कि ये योग संघ योग को प्रामाणिक बनाने के‍ लिए एक साझा कोर्स तैयार करेगा जो भारत सरकार व संबंधित विभाग के मानकों के अुनरूप होगा। इसके अलावा स्कूलों-कॉलेजों में योग के पाठ्यक्रमों को चलाने और इस संबंध में मान्य डिग्रियों के निर्धारण और महत्व के अनुरूप स्वीकार्य बनाने पर जोर दिया जाएगा।
 
श्रीश्री रविशंकर ने बताया कि भारत में कई विद्वान योगाचार्य व संस्थाएं काम कर रही हैं,परन्तु कोई ऐसा मंच नहीं था। जो सभी को एक साथ जोड़ सके। उन्होंने कहा कि सभी संस्थाओं के साथ आने से योग के प्रति देश-विदेश में लोगों में आस्था औेर विश्वास अधिक पैदा होगा। योग भारत को विश्वगुरु बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। 
           
सभी धर्मगुरुओं ने बताया कि योग का परचम विश्व में फहराने औेर भारत को विश्वगुरु बनाने के लिए एक सर्वमान्य एजेंडा तैयार किया गया है।  इसके साथ ही योग को नए  आयाम देन के लिए मिलकर काम करने तथा विश्व बन्धुत्व की भावना कामना से काम करने के लिए यह योग संघ मील का पत्थर साबित हो सकता है। इसके लिए टीम भावना से काम करने को प्राथमिकता दी गई  है। 
          
उन्होंने बताया कि अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस को सफल बनाने के लिए साझा रणनीति तैयार की जा रही है। इसके लिए जल्द ही दायित्व सौंपे जाएंगे। सभी के सुझावों को समावेशित करते हुए कार्ययोजना तैयार की जाएगी, ताकि पूरे देश में योग दिवस को सफल बनाकर योग को आगे बढ़ाने का काम किया जा सके। इसके अलावा मार्च में दिल्ली में भी योग सम्मेलन कर नए प्रारूप के साथ योग के अंतरराष्ट्रीय एजेंडे पर मंथन कर आगे की कार्ययोजना को प्रभावी रूप से क्रियान्नवित किया जाएगा। 
           
इस अवसर पर उपरोक्त के अलावा प्रो. नागेन्द्र योगाचार्य भारत भूषण, ओपी तिवारी, गुरुकुल विवि के प्रो. ईश्वर भारद्वाज, चेन्नई से आए प्रो. महादेवन, कोयंबटूर से आए प्रो. जीवसुदेव, बिवासवा रेड्डी भी मौजूद थे। (वार्ता)



और भी पढ़ें :