दंगाइयों का समर्थन कर रहे हैं राहुल और प्रियंका गांधी : अमित शाह

पुनः संशोधित सोमवार, 6 जनवरी 2020 (16:50 IST)
नई दिल्ली। गृहमंत्री एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को लगाया कि के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी एवं प्रियंका गांधी वाड्रा (सीएए) पर झूठ बोलकर अल्पसंख्यकों को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि देश देख रहा है कि राहुल गांधी दंगाइयों का समर्थन कर रहे हैं। अमित शाह ने आरोप लगाया कि दिल्ली को दंगों की आग में झुलसाने का पाप कांग्रेस और 'आप' ने किया, दिल्ली की जनता उनसे इसका हिसाब मांगेगी।
शाह ने यहां एक समारोह में आरोप लगाया, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने देशभर के अल्पसंख्यकों को गुमराह किया कि वे देश के नागरिक नहीं रह पाएंगे, जबकि संशोधित नागरिकता कानून में किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं, इसमें नागरिकता देने का प्रावधान है।

उन्होंने सवाल किया कि झूठ क्यों बोल रहे हो। उन्होंने आरोप लगाया कि देश देख रहा है कि राहुल गांधी दंगाइयों का समर्थन कर रहे हैं। अमित शाह ने आरोप लगाया कि दिल्ली को दंगों की आग में झुलसाने का पाप कांग्रेस और 'आप' ने किया, दिल्ली की जनता उनसे इसका हिसाब मांगेगी।

उन्होंने कहा कि चार-चार दिन तक दिल्ली में दिक्कतें रहीं, दंगे हुए और इसके लिए कांग्रेस और 'आप' जिम्मेदार है। शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण भारत में शरण लेने वाले उन देशों के अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के लिए नया कानून लेकर आए, लेकिन कांग्रेस और आप, विशेष तौर से राहुल, प्रियंका पूरे देश के अल्पसंख्यकों को गुमराह कर रहे हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि ये झूठ बोल रहे हैं और उनसे कह रहे हैं कि के कारण उनकी नागरिकता चली जाएगी, लेकिन संशोधित कानून में ऐसी कोई बात नहीं है। शाह ने आरोप लगाया कि कांग्रेस और आप युवाओं और दिल्ली के लोगों को गुमराह करने का काम कर रही है और दिल्ली को दंगे की आग में झोंकने का पाप कर रही है।

कांग्रेस, आप एवं वाम दल फैला रहे हैं अशांति : केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रों और शिक्षकों पर हमले की सोमवार को निंदा की तथा कांग्रेस, आप एवं वाम दलों पर देश में अशांति का माहौल बनाने का आरोप लगाया।

जावड़ेकर ने ट्वीट किया, मैं कल रात जेएनयू में हुई हिंसा की निंदा करता हूं। कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और वाम दलों के कुछ तत्व जानबूझकर देश में, खासकर विश्वविद्यालयों में हिंसा और अशांति का माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसकी जांच होनी चाहिए।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में रविवार रात कुछ नकाबपोश लोगों ने छात्रों और शिक्षकों पर हमला किया तथा संपत्ति को नुकसान पहुंचाया।



और भी पढ़ें :