Monsoon update : देश के कई हिस्सों में बारिश जारी, वर्षा संबंधी घटनाओं में 4 लोगों की मौत

पुनः संशोधित सोमवार, 29 जून 2020 (00:01 IST)
नई दिल्ली। असम में बारिश से संबंधित घटनाओं में तीन लोगों की जान चली गई और जम्मू कश्मीर में बिजली गिरने से एक नाबालिग लड़की की मौत हो गई। देश के कई हिस्सों में रविवार को दक्षिण पश्चिमी के कारण लगातार बारिश हुई।
असस में बाढ़ से 23 जिलों में लगभग 9.3 लाख लोग प्रभावित हुए है। गुवाहाटी समेत कई क्षेत्रों में ब्रह्मपुत्र नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

रविवार को गुवाहाटी में भूस्खलन की दो घटनाएं हुई और अधिकारियों ने लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा। गुवाहाटी में राजभवन के निकट एक महिला कॉलेज की छात्रा भूस्खलन में दब गई। भूस्खलन की दूसरी घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है।
एक आधिकारक अनुमान के अनुसार, बाढ़ के कारण धेमाजी और उदलगिरि जिलों में दो और लोगों की मौत हो गई। असम में बाढ़ से अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है।

सिक्किम में, ऊपरी जोंगू क्षेत्र में बाढ़ में 19 मकान और एक माध्यमिक विद्यालय का एक छात्रावास क्षतिग्रस्त हो गया जिससे कम से कम 35 परिवार प्रभावित हुए। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से बाढ़ की स्थिति के संबंध में बातचीत की।
उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी बात की और उन्हें संभावित बाढ़ की स्थिति में केंद्रीय मदद का आश्वासन दिया क्योंकि महानंदा नदी का जल स्तर बढ़ता जा रहा है।

मानसून के दौरान मध्य भारत में भी बारिश का सिलसिला जारी है और विभिन्न स्थानों पर कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। मध्यप्रदेश में इस साल मानसून की अनुकूल शुरुआत होने से जून माह में अब तक सामान्य से 88 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है।
मौसम विज्ञान केन्द्र, भोपाल के अधिकारी जीडी मिश्रा ने रविवार को बताया कि प्रदेश में 14 जून को मानसून पहुंच गया और अगले दस दिन तक सक्रिय रहा।

उन्होंने बताया, ‘इससे पहले मानसून मध्यप्रदेश में जून माह के उत्तरार्ध में पहुंचता था और प्रदेश में फैलने में समय लगता था। लेकिन, इस बार ग्वालियर और जबलपुर जिलों को छोड़कर प्रदेश में एक जून से 27 जून के बीच सामान्य से 88 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई है।’
उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में मानसून की सक्रियता बरकरार है और पिछले 24 घंटों के दौरान इन भागों के अनेक हिस्सों में वर्षा हुई। आंचलिक मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मानसून पूरी तरह सक्रिय है और राज्य के इन इलाकों में पिछले 24 घंटों के दौरान अनेक स्थानों पर बारिश हुई।
जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में बिजली गिरने से 10 वर्षीय एक बालिका की मौत हो गई और तीन अन्य घायल हो गए। पुलिस ने यह जानकारी दी। दिल्ली, राजस्थान, पंजाब और हरियाणा में हालांकि तापमान में बढोत्तरी जारी है।

राजस्थान के अधिकतर हिस्सों में शनिवार के मुकाबले रविवार को अधिकतम और न्यूनतम तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि दर्ज की गई। श्रीगंगानगर में अधिकतम तापमान 43.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, रविवार सुबह साढ़े आठ बजे तक धौलपुर में दो सेंटीमीटर, धौलपुर के सैपऊ और भरतपुर में कुम्हेर में एक एक सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई।

दिल्ली में पारा 40 डिग्री के पार पहुंचा : राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को तापमान 40 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया। मानसून की शुरुआत होने के बावजूद महानगर में लोगों को अभी भी बारिश का इंतजार है।

हालांकि, मौसम विभाग ने अगले चार से पांच दिनों में हल्की बारिश और आंशिक रूप से बादल छाए रहने की संभावना जताई है। सफदरजंग वेधशाला ने रविवार को अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो सामान्य से तीन डिग्री अधिक है। आर्द्रता का स्तर 46 फीसदी से 85 फीसदी के बीच रहा।
उत्तरप्रदेश के अनेक इलाकों में हुई बारिश : उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में मानसून की सक्रियता बरकरार है और पिछले 24 घंटों के दौरान इन भागों के अनेक हिस्सों में वर्षा हुई।

अयोध्या में सबसे ज्यादा 12 सेंटीमीटर वर्षा हुई। इसके अलावा तरबगंज में 11, अकबरपुर और हरदोई में 9-9, चंद्रदीप घाट में 7, हर्रैया, गोंडा और बाह में 6-6, मुसाफिरखाना, हमीरपुर और पट्टी में 5-5, काकरधारी घाट, शारदा नगर, ज्ञानपुर, प्रतापगढ़, अकबरपुर, फैजाबाद, महाराजगंज और झांसी में 4-4 सेंटीमीटर वर्षा दर्ज की गई।
अगले 24 घंटों के दौरान भी राज्य के पूर्वी इलाकों के अनेक हिस्सों में बारिश होने की संभावना है जबकि पश्चिमी इलाकों में कुछ स्थानों पर वर्षा हो सकती है ऐसा ही मौसम आगामी 1 जुलाई तक बने रहने के आसार हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :