क्‍या आपको पता है अपने जीवन का ‘IKIGAI’, अगर नहीं तो ऐसे पता करें ‘आप क्‍यों आए हैं दुनिया में’ ?

जापानी भारत के लोगों से या बाकी दुनिया से कुछ मामलों में अलग माने जाते हैं। वो फर्क यह है कि उन्‍हें पता होता है कि उनकी जिंदगी का मकसद क्‍या है, अगर उन्‍हें नहीं पता होता है कि जिंदगी में आने की उनकी वजह क्‍या है तो वे इस बारे में पता लगाते हैं।

खुशहाली और लंबी उम्र। यह भी जापानियों की एक ऐसी बात है जो उन्‍हें दूसरों से खास बनाती है। वजह है उनके पास उनकी जिंदगी की होना। यह एक जापानी शब्‍द है। जिसका अर्थ है मकसद, या जीवन की सार्थकता।

दुनिया में हर आदमी का एक होता है, लेकिन अलग-अलग, सिर्फ सवाल यह है कि कौन अपने इकिगाई को खोजने का प्रयास करता है।


IKIGAI एक इंटरनेशनल है। यह Héctor García और ने लिखी है। किताब का कहना है कि हम सभी के पास एक इकिगाई होता है, लेकिन हम उसके बारे में नहीं जानते हैं। लेकिन जापानीज अपने मकसद को खोजकर अपनी जिंदगी को खुशहाल बनाते हैं।

जानते हैं कैसे एक किताब जिंदगी बदल सकती है।

यह किताब हर आदमी को अपना इकिगाई खोजने में मदद करेगी।
किताब आपके काम को आसान करने की मदद करेगी।

जापानियों के लिए इकिगाई का मतलब है जीवन की सार्थकता। वे अपनी उम्र में यह खोजने की कोशि‍श करते हैं कि अपने जीवन को सार्थक कैसे बनाएं। इसके लिए वे क्‍या करते हैं।

•जापानी कहते हैं कि हम सभी में अपना इकिगाई छुपा होता है।
•सबसे पहले उसे पहचानना होता है
•पहचान करने के बाद अपने इकिगाई यानि मकसद को खोजना होता है।
•एक बार आपने अपना इकिगाई खोज लिया तो जीवन की सार्थकता के संकेत मिल जाएंगे।


दरअसल, इकिगाई एक प्रक्र‍िया है। जिसे फॉलो करने पर हर कोई एक खुशहाल और सार्थक जीवन जी सकता है। ये प्रक्रि‍या इस प्रकार हैं।


(1)सबसे पहला यह कि आप ऐसा काम करें जो आपको पसंद हो, जो आपकी हॉबी हो।
(2)जो काम आपको पसंद है, उसे ही प्रोफेशन बना लें। जैसे यदि आपको गाना गाना या डांस करना पसंद है तो आप इसे अपने प्रोफेशन में तब्‍दील कर लें।
(3)जो काम आपकी रूचि है, उसे अपने प्रोफेशन में बदलने से आपको काम करने में मजा आएगा। वो आपके लिए काम करना नहीं होगा।
(4)इसके बाद आपको आपको देखना है कि जो काम आप करते हैं क्‍या वह दुनिया के लिए कितने काम का है या बाकी लोगों को उससे कुछ मिलता है, तो निश्‍चित तौर पर आप देखेंगे कि आपके गाने से सा डांस से दुनिया को मजा आएगा, वे आपकी कला से खुश होंगे, और इससे आपको खुशी मिलेगी।
(5)अब आपको अपने इस काम को प्रोफेशन में बदलने की जरूरत जिससे कि आपको उससे धन मिल सके।
(6)इस पूरी प्रक्र‍िया का फार्मूला है... आपकी पसंद + दक्षता + पैशन (Passion)
(7)ऐसे आपको पता चलेगा कि आपकी रूचि क्‍या है, जो रूचि है
वही आपका प्रोफेशन है और आपके इस काम की दुनिया को कितनी जरूरत है और क्‍या आपको अपनी रूचि के काम को करने से धन भी मिल सकता है।
(8)इस तरह से आपका यह काम आपके लिए एक मिशन में बदल जाएगा।
(9)आप देखेंगे कि अगर आप इस पूरी प्रक्र‍िया को फॉलो करते हैं
(10)तो यही प्रक्र‍िया पैशन + प्रोफेशन + वोकेशन + मिशन में बदल कर आपका इकिगाई (Ikigai) बन जाएगा। मतलब आपको अपनी जिंदगी का इकिगाई यानि मकसद मिल गया। जो आपके जीवन को सार्थक बनाएगा।

इकिगाई के 10 नियम (10 Rules Of Ikigai)
1. सक्रिय रहें; रिटायर न हो।
2.
रूके नहीं, धीमे धीमे चलते रहें।
4. अच्छे दोस्तों से घिरे रहें।
5. मुस्कुराते रहें।
6. प्रकृति के साथ कनेक्ट रहें।
8. हर चीज का धन्यवाद दें।
9.
वर्तमान में रहें ।



और भी पढ़ें :