किसान आंदोलन: मंदसौर में बवाल, गोलीबारी में गई 5 की जान...

मंदसौर| Last Updated: मंगलवार, 6 जून 2017 (17:19 IST)
मंदसौर। मध्यप्रदेश में किसानों का उग्र प्रदर्शन लगातार जारी है। प्रदर्शनकारी गुट द्वारा बसों में तोड़फोड़ आग लगाए जाने के बाद मौके पर पहुंची सीआरपीएफ की टीम ने मोर्चा संभाला। इस दौरान वहां गोलीबारी भी हुई इसमें 5 हो गई। किसानों के आंदोलन को उग्र होते देख उज्जैन संभाग के आस पास के जिलो में इंटरनेट की सुविधा बंद कर दी गई है। सूत्रों के अनुसार, नीमच रोड पर बही के पास गुस्साए किसानों ने 10 से ज्यादा ट्रकों में आग लगा दी। उन्होंने पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों पर पथराव भी किया। हालात बेकाबू होने पर सीआरपीएफ के जवानों ने गोलीबारी की। गोलीबारी में तीन की मौत हो गई है।
दो घायलों ने इलाज के इंदौर जाते समय रास्ते में ही दम तोड़ दिया। खबरों के मुताबिक मंदसौर में कर्फ्यू लगाया गया है।

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि सीआरपीएफ द्वारा दी गई गोलीबारी से किसानों की मौत हो गई। इलाके में तनाव को देखते हुए भारी पुलिसबल तैनात कर दिया गया है।
दोनों पक्षों में आपसी पथराव के बाद 4 किसानों को गोली लगी है। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि सीआरपीएफ द्वारा गोली चलाई गई गोली से दो किसानों की मौत हो गई, जबकि दो अन्य घायल है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने मंदसौर में किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान गोलीबारी की घटना की न्यायिक जांच का आदेश दिया। मुख्यमंत्री ने मृतकों को 5-5 लाख और घायलों को एक एक लाख का मुआवजा देने की भी घोषणा की।
कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने ट्वीट कर कहा कि मंदसौर में पुलिस फायरिंग में फिर एक किसान की मौत, कुछ देर पहले भी हुई थी एक किसान की मौत। शिवराजजी किसानों का इम्तहान मत लो।
इस बीच मंदसौर में किसानों की मौत के बाद बिगड़े हालात के मद्देनजर मुख्यमंत्री शिवराज ने बुलाई आपात बैठक। मुख्‍यमंत्री निवास पर चल रही इस बैठक में मुख्य सचिव और पुलिस के आला अधिकारी मौजूद।
दलौदा में मंगलवार सुबह किसानों ने फिर जाम लगाने की कोशिश की। पुलिस ने सख्त कार्रवाई करते हुए प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज कर जाम को खुलवाया। इस पर नाराज प्रदर्शनकारियों ने दो बसों और एक टेम्पो में तोड़फोड कर आग लगा दी। जिले के डिगाव में भी सीतामऊ रोड पर जाम लगाने की कोशिश हुई। यहां प्रदर्शन कर रहे किसानों को खदेड़ने के लिए सुरक्षाबलों ने अश्रु गैस के गोले छोड़े। सुवासरा में किसान और व्यापारियों के बीच विवाद की खबर है। किसानों ने दलौदा में रेलवे फाटक तोड़ दिया था और पटरियां उखाड़ने की कोशिश की। किसानों ने आज नीमच जिले में भी बंद का आह्वान किया है, वहीं मप्र में किसानों के आंदोलन को उग्र होते देख उज्जैन संभाग के आस पास के जिलो में इंटरनेट की सुविधा बंद कर दी गई है। इंदौर में हजारों किसानों के कलेक्टोरेट में पहुंच कर प्रदर्शन किया है।



और भी पढ़ें :